Politics

CM योगी को ‘पुराने शिष्य’ ने ही दी चुनौती, बोले- जीवन का सबसे मुश्किल चुनाव बना दूंगा

cm-yogi-government-now-license-will-be-required-for-selling-tobacco-cigarettes
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Yogi Adityanath Old Disciple Gave Challenge : सियासत में कोई सगा और पराया नहीं होता है। जो आज दूसरे दल में हैं, कल वे अपने दल में आ जाते हैं। एक दल से दूसरे दल में आना-जाना लगा रहता है। सियासत ऐसा काम है, जिसमें धर्म-कर्म की बातें करने वाले से लेकर अपराध की दुनिया में कुख्यात हो चुके लोग भी नेता बन जाते हैं। अवसर और तात्कालिक लाभ के हिसाब से पाला बदलने की प्रवृत्ति सबसे ज्यादा राजनीति में ही देखी जाती है।

अभी हाल ही में भारतीय जनता पार्टी ने सीएम योगी आदित्यनाथ को उनके गृहनगर गोरखपुर से उम्मीदवार बनाने का फैसला किया। इस पर कभी उनके करीबी रहे और योगी आदित्यनाथ को अपना गुरु मानने वाले सुनील सिंह ने उनको चुनौती देते हुए सोशल मीडिया पर लिखा, “कहीं नोट कर लीजिए बाबा मैं सुनील सिंह आज घोषणा करता हूं कि इस बार का चुनाव आपके जीवन का सबसे मुश्किल चुनाव बना दूंगा। रिकार्ड मतों से हारने के लिए तैयार रहिए। गोरखपुर की धरती इस बार इंकलाब का नया इतिहास लिखेगी। घमंड हारेगा और संघर्ष की जीत होगी।

यह भी पढ़ें -: मथुरा BJP को झटका, एसके शर्मा ने दिया इस्तीफा, आवास से उतारा BJP का झंडा, बोले- राम नाम की लूट…

उनका यह ट्वीट तब सामने आया जब योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर से खुद को टिकट दिए जाने पर पीएम मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और उम्मीदवार चयन समिति के प्रति आभार जताया। सीएम योगी ने लिखा, “आगामी विधानसभा चुनाव में मुझे गोरखपुर (शहर) से भारतीय जनता पार्टी का उम्मीदवार बनाने के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी, माननीय अध्यक्ष श्री जेपी नड्डा जी एवं संसदीय बोर्ड का हार्दिक आभार।

सुनील सिंह फिलहाल समाजवादी पार्टी में हैं और संत कबीर नगर से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं। कभी वह सीएम योगी आदित्यनाथ के बेहद करीबी रहे और उनको अपना गुरु बताकर उनके शिष्य के रूप में रहा करते थे, लेकिन अब वे समाजवादी पार्टी का दामन थाम चुके हैं और एक बार सभा में योगी सरकार को “हत्यारी सरकार” भी कह चुके हैं।

यह भी पढ़ें -: BJP नेता ने मास्क पहनने से किया इनकार, बोले- PM बोले हैं यह व्यक्तिगत फैसला है

उधर, मथुरा जिले की मांट विधानसभा सीट से 2017 का चुनाव लड़ने वाले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य एस के शर्मा ने इस बार विधानसभा चुनाव में इस सीट से उन्हें टिकट न दिए जाने पर नाराजगी जताते हुए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से मंगलवार को इस्तीफा दे दिया।

यह भी पढ़ें -: अब क्लब हाउस ऐप पर मुस्लिम महिलाओं के ऊपर अभद्र टिप्पणी, जानें पूरा मामला…

यह भी पढ़ें -: सेक्स वर्कर्स के लिए महाराष्ट्र सरकार की बड़ी पहल, अब इस सरकारी योजना का मिलेगा लाभ

यह भी पढ़ें -: केरल के पेंटर ने जीती 12 करोड़ रुपये की लॉटरी, 5 घंटे पहले ही खरीदा था टिकट

सोर्स – jansatta.com. Yogi Adityanath Old Disciple Gave Challenge


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-