Politics

यति नरसिंहानंद के जामा मस्जिद जाने के ऐलान पर प्रशासन ने नोटिस जारी करते हुवे कहा- गए तो होगी कार्यवाही

yati narasinhaand jama masjid administration notice
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

दिल्ली से सटे गाजियाबाद में स्थित डासना देवी मंदिर के महंत और जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर यति नरसिंहानंद को जिला प्रशासन ने नोटिस भेजा है. अधिकारियों ने बताया कि गाजियाबाद प्रशासन ने डासना देवी मंदिर के पुजारी यति नरसिंहानंद को नोटिस जारी कर 17 जून को जामा मस्जिद का दौरा रद्द करने को कहा है. अगर वह ऐसा नहीं करते हैं तो प्रशासन की ओर से कार्रवाई की भी चेतावनी दी गई है.

दरअसल, सोशल मीडिया पर नरसिंहानंद ने एक वीडियो जारी कर 17 जून को जामा मस्जिद पहुंचने का ऐलान किया था. उन्होंने कहा था कि वो इस्लामिक किताबों को लेकर 17 तारीख को जामा मस्जिद पहुंचेंगे. इस ऐलान के बाद सोमवार को नोटिस जारी किया गया. वीडियो में नरसिंहानंद ने दावा किया गया था कि वह कुरान और इस्लामी इतिहास की किताबों के साथ जामा मस्जिद का दौरा करेंगे. अधिकारियों ने कहा कि नोटिस इसलिए जारी किया गया है, क्योंकि कथित वीडियो संदेश सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ सकता है.

ये भी पढ़ें -: अरब के शेख़ों से घबरा गया शेर, गोदी मीडिया की गोद में छिपी मोदी सरकार : रवीश कुमार

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि नरसिंहानंद को उनके डासना देवी मंदिर स्थित आवास पर 7 जून को नोटिस दिया गया था. हमें अभी तक उनकी ओर से कोई जवाब नहीं मिला है. अधिकारियों ने कहा कि नोटिस में नरसिंहानंद के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई है, अगर वह ऐसे बयान देते हैं जो सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ सकते हैं, तो ऐसे में उनके खिलाफ कार्रवाई होगी.

आपके बयान से विभिन्न समुदायों के बीच वैमनष्यता, ईर्षाय और द्वेष फैलने की संभावना है. इसलिए आपसे अनुरोध है कि आप इस तरह के बयान न दें, अन्यता आपके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी. 17 जून कोआपके जामा मस्जिद के दौरे से शांति व्यवस्था भंग हो सकती है, इसलिए आप इस प्रस्तावित कार्यक्रम को रद्द कर दें.

ये भी पढ़ें -: भारत के मुसलमान बोलते रहे लेकिन पीएम मोदी हरकत में क़तर और सऊदी से आए : ओवैसी

अपने वीडियो में नरसिंहानंद ने कहा था कि मैं यति नरसिंहानंद सरस्वति अगले शुक्रवार यानी 17 जून कोइस्लामी किताबों को लेकर शुक्रवार की नमान के बाद दिल्ली की जामा मस्जिद जाऊंगा, क्योंकि वहां बड़े-बड़े मौलाना मौजूद होते हैं. मैं वहां उन लोगों को दिखाना चाहता हूं कि वे जिन बातों के लिए हमें फतवा देते हैं, वे सारी बातें उनकी किताबों में लिखी हुई हैं.

इतना ही नहीं, उन्होंने अपनी जान को खतरा भी बताया था. उन्होंने अपने बयान में नूपुर शर्मा का जिक्र किया था और एक तरह से उनके बयान का समर्थन भी.

ये भी पढ़ें -: सोनाक्षी सिन्हा जहीर इकबाल संग शादी पर बोली- रोका, मेहंदी, संगीत सब फिक्स है

ये भी पढ़ें -: नुपुर शर्मा मुद्दे पर पहली बार बोली कंगना रणौत, कही ये बात…, पढ़ें विस्तार से

ये भी पढ़ें -: BJP नेता हुवा गिरफ्तार: पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी करने का मामला, पुलिस ने कही ये बात…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-