Politics

स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS के ट्रांसफर पर बोलीं महुआ मोइत्रा- अरुणाचल कचरा फेंकने की जगह नहीं

why-shame-arunachal-mahua-moitra-on-transfer-of-ias-officer-over-dog-walking-row
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

IAS Couple Transfer: कुत्ता घुमाने के लिए त्यागराज स्टेडियम खाली कराने वाले आईएसएस दंपति का लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश ट्रांसफर करने पर विवाद बढ़ गया है. तृणमूल कांग्रेस से लोकसभा सांसद महुआ मोइत्रा ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए इसे अरुणाचल प्रदेश का अपमान बताया है. केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू और अरुणाचल प्रदेश के सीएम पेमा खांडू को टैग करते हुए महुआ ने कहा कि उन्हें गृह मंत्रालय के इस कदम का विरोध करना चाहिए. अरुणाचल प्रदेश ‘कूड़ा फेंकने की जगह नहीं है’.

वहीं जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने लोगों द्वारा लद्दाख को सजा वाली पोस्टिंग कहने पर निराशा जताई है. AGMUT कैडर के आईएएस अफसर संजीव खिरवार को लद्दाख और उनकी पत्नी रिंकू दुग्गा को अरुणाचल प्रदेश भेजा गया है.

ये भी पढ़ें -: मिड डे मिल का जायजा लेने पहुचे डीएम ने जमीन पर बैठकर छात्रों के साथ भोजन किया

अपने ट्वीट में महुआ ने लिखा, ‘दिल्ली के एक आईएएस का ट्रांसफर करके आप अरुणाचल प्रदेश को क्यों शर्मिंदा कर रहे हैं. गृह मंत्रालय सिर्फ नॉर्थ ईस्ट के लिए जुबानी प्रेम दिखाता है और इन राज्यों को कचरा फेंकने की जगह के तौर पर इस्तेमाल करता है. किरेन रिजिजू और पेमा खांडू को इसका विरोध करना चाहिए.

दिल्ली सरकार की ओर से चलाए जा रहे त्यागराज स्टेडियम को कुत्ता घुमाने के लिए खाली कराने की खबर जैसे ही फैली तो सरकार की किरकिरी होने लगी. इसके बाद आम आदमी पार्टी सरकार ने ऐलान किया कि सभी खेल प्रतिष्ठान रात 10 बजे तक खुले रहेंगे ताकि खिलाड़ियों को किसी तरह की असुविधा न हो. गुरुवार को आईएएस दंपति का ट्रांसफर कर दिया गया. संजीव खिरवार को लद्दाख और उनकी पत्नी रिंकू दुग्गा को अरुणाचल प्रदेश भेजा गया है.

ये भी पढ़ें -: शहीद मुदस्सिर के पिता बोले- मेरा बेटा अब वापस नहीं आएगा, लेकिन हजारों जिंदगियां बचा गया

आईएएस दंपति की त्यागराज स्टेडियम में कुत्ता घुमाते हुए फोटो वायरल हुई थी. इसके बाद उनके लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में ट्रांसफर को कई लोग बतौर सजा के रूप में मान रहे हैं. वहीं जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने भी आईएएस अफसर के लद्दाख ट्रांसफर पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि लद्दाख के लोगों के लिए यह निशानाजनक है कि इस जगह को लोग सजा वाली पोस्टिंग कह रहे हैं. यह खूबसूरत जगह है और यहां के लोग मेहमाननवाज हैं. मुझे यकीन है कि यही बात अरुणाचल प्रदेश पर भी लागू होती है, हालांकि मैं कभी वहां गया नहीं.

बता दें कि दोनों अफसर 1994 एजीएमयूटी कैडर से हैं. खिरवार दिल्ली सरकार में वरिष्ठ अफसर थे. वह पर्यावरण विभाग में सचिव के रूप में काम कर रहे थे. जबकि उनकी पत्नी दिल्ली सरकार में लैंड एंड बिल्डिंग सेक्रेटरी थीं.

ये भी पढ़ें -: समीर वानखेड़े की मुश्किलें बढ़ी, गृह मंत्रालय ने कड़ी कार्रवाई का आदेश दिया

ये भी पढ़ें -: इस क्रिकेटर की पत्नी ने जोस बटलर को बताया अपना ‘दूसरा पति’, जानिए क्या है पूरा मामला

सोर्स – zeenews.india.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-