Politics

योगी सरकार पर भड़के लोग, बोले- बंगाल की हिंसा ‘हिंसा’ और यूपी की हिंसा ‘मास्टरस्ट्रोक’

violence-in-block-chief-election-in-up-people-raised-questions
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

उत्तर प्रदेश में गुरुवार को ब्लॉक प्रमुख चुनाव के लिए हुए हैं नामांकन के दौरान जमकर बवाल हुआ। सपा व भाजपा समर्थकों के बीच झड़प की खबरें सामने आई। कई जिलों में बीजेपी के समर्थक विरोधी उम्मीदवार के प्रस्ताव को पुलिस के सामने ही खींच कर बाहर ले जाते दिखे, कहीं समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के नामांकन में प्रस्ताव महिला के कपड़े तक विरोधी खींचते दिखे। नामांकन के दौरान हुई इस घटना पर लोग सोशल मीडिया पर जमकर गुस्सा जाहिर कर रहे हैं।

कांग्रेस पार्टी के मीडिया प्रभारी सुरेंद्र राजपूत ने योगी सरकार पर हमला बोलते हुए लिखा कि कल सरकारी संरक्षण में जितनी हिंसा उत्तर प्रदेश में हुई अगर बंगाल में हुई होती तो अब तक राष्ट्रपति शासन लग जाता। स्वतंत्र पत्रकार रणविजय सिंह ने इस घटना पर तंज कसते हुए लिखा कि, ‘ कमाल है…. बंगाल की हिंसा ‘हिंसा’, यूपी की हिंसा ‘मास्टर स्ट्रोक’।

ये भी पढ़ें -: BJP पर भड़के कांग्रेस नेता- बंगाल चुनाव में हिंसा हुई, लेकिन UP में भाजपाई भजन-कीर्तन कर रहे?

पत्रकार रोहिणी सिंह ने मीडिया पर कटाक्ष करते हुए लिखा कि बंगाल में हिंसा हो रही थी, उत्तर प्रदेश में जो आज हो रहा है वह कीर्तन है। कांग्रेस युवा कमेटी के अध्यक्ष श्रीनिवास ने भी इस घटना पर ट्वीट करते हुए लिखा कि, ‘बंगाल में चुनाव के बाद जो हुआ वो ‘हिंसा’ थी, लेकिन उत्तर प्रदेश में चुनाव जीतने के लिए जो भाजपाई कर रहे हैं वह ‘हर हर मोदी’ का भजन कीर्तन है?

लेखक अशोक कुमार पांडे ने लिखा कि आज तक और एबीपी न्यूज़ जैसे चैनल अपने पत्रकार के पीटे जाने पर खबर नहीं चला पा रहे हैं तो आपके दुख दर्द पर क्या बोलेंगे? इनकी मजबूरी समझिए। यह उस बात की तरह है जो मालिक की दलाली में अपने बच्चे का भी ख्याल नहीं रख पाता।

ये भी पढ़ें -: UP में पंचायत चुनाव से पहले हिंसा, महिला प्रस्तावक के कपड़े फाड़े, खुद जान बचाती दिखी पुलिस

इस घटना पर पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा कि कल पूरे उत्तर प्रदेश में हिंसा का विकराल रूप दिखा, अभी तक भक्तों ने ममता दीदी से इस्तीफा क्यों नहीं मांगा?

उन्होंने दूसरे ट्वीट के जरिए मीडिया पर सवाल उठाते हुए लिखा कि आज तक न्यूज़ चैनलों में सशक्त महिलाओं की भरमार है, पर मुझे दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि एक महिला की साड़ी तक खींच दी गई और मीडिया जगत की महिलाओं तक में योगी आदित्यनाथ से एक सवाल तक नहीं पूछा। आखिर क्या मिल जाएगा आपको अपना आत्मसम्मान तक गंवा कर?

ये भी पढ़ें -: नए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव का ऐलान- अब 2 शिफ्ट में काम करेंगे रेलवे के ऑफिस स्टाफ

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-