India

वैक्सीन बनाने वाली कम्पनी के कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर, जानें पूरा मामला…

vaccine-maker-bibcol-employees-on-indefinite-strike
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में अपनी मांगों को लेकर बिबकोल कंपनी के कर्मचारी सोमवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। हड़ताल शुक्रवार को भी जारी है। कर्मचारियों ने कंपनी प्रबंधक पर कर्मचारियों का उत्पीड़न किए जाने और घोटाला किए जाने जैसे गंभीर आरोप लगाए हैं।

बिबकोल कर्मचारी क्रांतिकारी यूनियन के अध्यक्ष हेमंत कौशिक ने बताया कि बिबकोल भारत सरकार का उपक्रम है, जो विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय के अधीन है। यूनियन के अध्यक्ष का आरोप है कि उसमें प्रबंधक मंडल के द्वारा भ्रष्टाचार, कर्मचारियों का उत्पीड़न, बच्चों के जीवन के साथ से खिलवाड़, फर्जी बिलों का भुगतान करना, कंपनी का एसेसमेंट गायब करना, बिना डीपीसी (डिपार्टमेंटल परमिशन समिति) के अपने चहेतों को प्रमोशन करना…

यह भी पढ़ें -: उज्जैन के महाकाल मंदिर में बुर्का पहन दर्शन को पहुंची महिला, पुलिस ने पूछा तो कही ये बात…

बिना पोस्ट के प्रमोशन करना, बिना पोस्ट की भर्ती करना, बिना अप्रूवल के पेमेंट करना और कंपनी को करोड़ों रुपये का नुकसान पहुंचाना आदि शामिल है। कर्मचारियों ने अपनी मांग रखी है और लगभग 2 महीने से ज्यादा हो गए हैं। प्रबंधक में कोई बातचीत के लिए प्रस्ताव नहीं भेजा है।

इस मामले में संदीप लाल महाप्रबंधक बिबकोल ने बताया कि यह सभी कर्मचारी गलत तरीके से हड़ताल पर गए हैं। इनसे हमारी बातचीत चल रही है और हमने इनसे बात भी की है, लेकिन यह बेबुनियाद मांग है। जिनको लेकर यह धरने पर बैठे हैं और कंपनी की काफी दवाई इनकी वजह से खराब भी हो चुकी हैं।

यह भी पढ़ें -: मनमोहन सिंह के मोदी सरकार पर दिए बयान पर बोलीं निर्मला सीतारमण- आपका सम्‍मान करती हूं, यह आशा नहीं थी

रीजनल लेबर कमिश्नर इनसे बातचीत कर रहे हैं। धरना कर रहे कर्मचारियों से बात हुई थी। कहा गया था आप धरना खत्म कीजिए और आपकी सारी बात सुनी जाएंगी, लेकिन वह लोग नहीं मानें, जिन घोटालों का यह लोग आरोप लगा रहे हैं, उनकी जांच हो चुकी है और वह उसमें कुछ भी नहीं पाया गया है।

यह भी पढ़ें -: प्रिंसिपल बोले- हिजाब हटाकर पढ़ाओ, लेक्चरर ने इस्तीफा देकर कह दी ये बात…, पढ़ें विस्तार से

यह भी पढ़ें -: केआरके ने खाई कसम- योगी की नहीं हुई हार, तो कभी वापस नहीं आऊंगा भारत, आने लगे ऐसे कमेंट

यह भी पढ़ें -: सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद UP सरकार ने वापस लिए 274 नोटिस, CAA प्रदर्शन पर जारी हुवे थे नोटिस

सोर्स – navbharattimes.indiatimes.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-