Politics

उद्धव का मोदी सरकार पर वार- कश्मीरी पंडितों को दिखाया गया था घर वापसी का सपना, अब…

uddhav-thackeray-modi-sarkar-kashmiri-pandits-
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

कश्मीर में बढ़ती आतंकी घटनाओं के बीच महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार को कहा कि टारगेट किलिंग के कारण कश्मीरी पंडित घाटी छोड़ रहे हैं. उन्हें घर वापसी का सपना दिखाया गया था, लेकिन अब उन्हें मारा जा रहा है. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र कश्मीरी पंडितों के साथ है. वह उनकी हर संभव मदद करेगा. हम कश्मीरी पंडितों को बेसहारा नहीं छोड़ सकते. मालूम हो कि 1 मई से अब तक घाटी में आतंकवादी कम से कम आठ नागरिक की हत्या कर चुके हैं.

महाराष्ट्र सीएम ने कहा कि 1995 में बाल ठाकरे और तत्कालीन राज्य सरकार ने कश्मीरी पंडितों को शिक्षा में आरक्षण दिया था. हम कश्मीरी पंडितों के नेताओं के संपर्क में हैं और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में मैं उनकी मदद करने के लिए हर संभव कोशिश करूंगा.

ये भी पढ़ें -: शोएब जमई बोले- मोहन भागवत या तो ‘मेकओवर’ कर रहे हैं या इनका हाल भी तोगड़िया जैसा हो गया है

कश्मीरी पंडित भले ही घाटी से बाहर तबादले की मांग कर रहे हों, लेकिन जम्मू-कश्मीर प्रशासन ऐसे किसी मांग को फिलहाल ज्यादा तवज्जो नहीं दे रही है. जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि कर्मचारियों को घाटी से बाहर नहीं भेजा जाएगा बल्कि सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया जाएगा. इसी सिलसिले में प्रशासन ने शनिवार को विभिन्न इलाकों में तैनात 177 कश्मीरी पंडितों का जिला मुख्यालय में ट्रांसफर या फिर समायोजन कर दिया है.

आतंकियों द्वारा कश्मीर में टारगेट किलिंग की लगातार घटनाओं को अंजाम दिए जाने के बाद गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को 15 दिनों में दूसरी हाई लेवल मीटिंग की. गृह मंत्री अमित शाह ने इस मीटिंग की अध्यक्षता की. उन्होंने घाटी में रह रहे कश्मीरी पंडितों की सुरक्षा को और भी फूलप्रूफ बनाने का निर्देश दिया है.

ये भी पढ़ें -: पत्रकार राजदेव रंजन म’र्डर केस मैं CBI ने जिस गवाह को मृत घोषित किया वो कोर्ट पहुंच बोली- हुजूर, मैं जिंदा हूं

जम्मू-कश्मीर में लगातार हो रहे टारगेट किलिंग को लेकर कश्मीरी पंडितों ने शनिवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन किया गया. कश्मीरी पंडितों की मांग है कि सरकार उनकी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करे. कश्मीरी पंडितों ने कहा कि घाटी में हिन्दुस्तान का झंडा उठाने वालों को टारगेट किया जा रहा है. कश्मीरी पंडितों ने कहा कि यदि कश्मीरी हिन्दुओं पर घाटी में भी हमला होता है तो पीओके और कश्मीर में क्या फर्क रह गया है. वहीं शनिवार को जम्मू में भी हिन्दुओं ने प्रदर्शन किया.

ये भी पढ़ें -: विश्व हिंदू हिंदू परिषद ने किया इस मस्जिद में पूजा का आह्वान, शहर मैं कर्फ्यू जैसे हालात

ये भी पढ़ें -: BJP के राकेश सिन्हा का दावा- सेना तैयार, जिस दिन शुभ मुहूर्त आएगा पाकिस्तान भी हमारा होगा

ये भी पढ़ें -: पथराव के बीच सिपाही मुस्तफा ने जान की परवाह किए बिना अकेले लिया मोर्चा

सोर्स – aajtak.in


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-