India

अविमुक्तेश्वरानंद ने माँग पूरी हुवे बिना ही खत्म किया अनशन, अब किया ये ऐलान…

swami-avimukteshwaranand-ends-his-fast-gyanvapi-case
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद स्थित वजूखाने में मिले शिवलिंग की पूजा की मांग पर अड़े स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने 108 घंटे बाद बुधवार सुबह अपना अनशन समाप्त कर दिया। ज्योतिष्पीठाधीश्वर एवं द्वारका शारदापीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती महाराज का पत्र मिलने के साथ ही काञ्ची मठ के महाराज के निवेदन पर स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद अनशन खत्म किया।

उन्होंने कहा कि भगवान आदि विश्वेश्वर की पादुकाओं का प्रतीक पूजन श्रीविद्यामठ में करके अपने 108 घंटे की निर्जल तपस्या को खत्म किया। अब वह गुरु आज्ञानुसार भगवान आदि विश्वेश्वर के भव्य मंदिर निर्माण के लिए देशव्यापी अभियान चलाएंगे। इस अन्न-जल-त्याग तपस्या के दौरान उनका वजन पांच किलो 400 ग्राम घट गया है। बता दें, कि ज्ञानवापी में मिले तथाकथित शिवलिंग की पूजा के लिए जाने का प्रयास करने पर प्रशासन द्वारा रोकने से क्षुब्ध होकर स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने शनिवार सुबह साढ़े आठ बजे से अन्न-जल त्याग दिया था।

ये भी पढ़ें -: BJP नेता हुवा गिरफ्तार: पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी करने का मामला, पुलिस ने कही ये बात…

अयोध्या के संत जीयर स्वामी ने मंगलवार को केदारघाट स्थित श्रीविद्यामठ में मंगलवार सुबह अनशन पर बैठे स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती से मुलाकात की थी। इस दौरान उन्होंने ज्ञानवापी नंदी का पूजन करने का हवाला देते हुए अनशन खत्म करने की अपील की, लेकिन स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद अपनी मांगों पर अड़े रहे।

अयोध्या से पधारे जीयर स्वामी और अविमुक्तेश्वरनंद के बीच करीब डेढ़ घंटे तक चली वार्ता बेनतीजा खत्म हुई। अनशन पर बैठे संत ने कहा कि जब तक ज्ञानवापी में पूजन-अर्चन नहीं कर लेते अनशन खत्म नहीं होगा। स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि प्रशासन उनसे सीधे वार्ता करने से कतरा रहा है। आरोप लगाया कि प्रशासन सिर्फ एक पक्ष की सुन रहा है। हिंदू वादी सरकार होने के बावजूद हिंदुओं के साथ अन्याय किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें -: 5वें दिन तक आते-आते Samrat Prithviraj के शोज होने लगे कैंसिल, एक दिन की कमाई रह गई इतनी…

ज्ञानवापी में शिवलिंग की पूजा आराधना करने से रोके जाने के बाद अन्न जल त्याग केदारघाट स्थित श्रीविद्या मठ में अनशन पर बैठे स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने मंगलवार को कहा था कि अगर उनकी मांग पूरी नहीं हुई तो वह परमधर्म सेना का गठन करेंगे। इसके साथ ही 11 लाख से अधिक साधु संतों को भी जुटाएंगे।

स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने जिलाधिकारी पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश की गलत व्याख्या करने का आरोप लगाया। स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा कि जिस प्रकार जिलाधिकारी ने पूर्व में मेरे पत्रों का तुरंत जवाब दिया, उसी तरह का जवाब देना चाहिए। चेतावनी दी कि यदि निर्धारित समय सीमा के भीतर जवाब नहीं मिला तो अवमानना का केस भी दायर करेंगे।

ये भी पढ़ें -: यति नरसिंहानंद के जामा मस्जिद जाने के ऐलान पर प्रशासन ने नोटिस जारी करते हुवे कहा- गए तो होगी कार्यवाही

ये भी पढ़ें -: राजस्थान राज्यसभा चुनाव को लेकर सुभाष चंद्रा ने किया बड़ा दावा, राजनीतिक गलियारों में हलचल तेज़


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-