आजम खान की बेल पर हाईकोर्ट से बोला SC- 137 दिन से कोई फैसला नहीं, ये तो न्याय का मखौल उड़ाना है

आजम खान की बेल पर हाईकोर्ट से बोला SC- 137 दिन से कोई फैसला नहीं, ये तो न्याय का मखौल उड़ाना है
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता आजम खान. सीतापुर जेल में बंद हैं. वक्फ बोर्ड की संपत्ति से जुड़े एक मामले में उन्हें जमानत नहीं मिल पा रही है. जमानत याचिका पर इलाहाबाद हाईकोर्ट में सुनवाई हो चुकी है, लेकिन फैसला अभी तक नहीं सुनाया गया है. इसे लेकर शुक्रवार, 6 मई को सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताई. सुप्रीम कोर्ट ने फैसले में देरी को ‘न्याय का मखौल’ उड़ाना बताया है. सुप्रीम कोर्ट की तरफ से कहा गया कि आजम खान 87 में से 86 मामलों में जमानत पा चुके हैं. एक मामले का फैसला रिजर्व हुए 137 दिन बीत गए हैं. अब इसे और रिजर्व नहीं रखा जाना चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस एल नागेश्वर राव और जस्टिस बीआर गवई की बेंच ने ये टिप्पणी की. बेंच ने कहा कि अगर इलाहाबाद हाईकोर्ट आजम खान की जमानत याचिका पर फैसला नहीं करता है, तो सुप्रीम कोर्ट को इस मामले में दखल देना पड़ेगा. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट अब 11 मई को अगली सुनवाई करेगा. वक्फ बोर्ड से जुड़े इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने पिछले साल 4 दिसंबर को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था.

ये भी पढ़ें -: लाउडस्पीकर विवाद ने ली जान: जोर-जोर से बजा रहा था भजन, युवक की पीट-पीटकर हत्या

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 5 मई को भी इस मामले में सुनवाई की थी. करीब ढाई घंटे तक चली इस सुनवाई के बाद इस मामले का फैसला सुरक्षित रख लिया गया था. आजम खान के ऊपर आरोप है कि उन्होंने मोहम्मद अली जौहर यूनीवर्सिटी प्रोजेक्ट के लिए अवैध तरीके से वक्फ बोर्ड की जमीन पर कब्जा कर लिया. साथ ही साथ पब्लिक फंड का भी दुरुपयोग किया. खान के खिलाफ दर्ज FIR में कहा गया है कि बंटवारे के दौरान इमामुद्दीन कुरैशी नाम के एक व्यक्ति पाकिस्तान चले गए थे और उनकी जमीन को एनेमी प्रॉपर्टी का दर्जा दे दिया गया था. आरोप हैं कि आजम खान ने दूसरे लोगों के साथ मिलकर 13.8 हेक्टेयर की उस जमीन पर कब्जा कर लिया.

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने फरवरी में आजम खान की उस याचिका को खारिज कर दिया था, जिसमें उन्होंने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में प्रचार करने की मंजूरी मांगी थी. याचिका में खान की तरफ से कहा गया था कि प्रशासन जानबूझकर उनकी जमानत याचिका पर होने वाली सुनवाई में देरी कर रहा है, ताकि वो चुनाव के दौरान जेल में ही बंद रहें.

ये भी पढ़ें -: करोड़ों की धोखाधड़ी मामले में अमीषा पटेल को झारखंड हाईकोर्ट ने दिया बड़ा झटका

आजम खान की जमानत को लेकर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर भी आरोप लगे हैं. कुछ दिन पहले ही आजम खान के मीडिया सलाहकार फसाहत अली ने आरोप लगाया था कि अखिलेश यादव नहीं चाहते कि आजम खान जेल से बाहर आएं.

इस बयान के बाद समाजवादी पार्टी के कुछ मुस्लिम नेताओं ने इस्तीफा दे दिया था. इधर, शिवपाल यादव ने भी आरोप लगाया कि अखिलेश यादव आजम खान के साथ नहीं खड़े हैं. वहीं अखिलेश यादव की तरफ से इन आरोपों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है.

ये भी पढ़ें -: 14 साल जेल में गुजारने के बाद हत्या के आरोपों से बरी, कोर्ट ने सरकार को 42 लाख मुआवजा देने का आदेश

ये भी पढ़ें -: BJP सांसद की राज ठाकरे को चेतावनी, बोले- अयोध्या में घुसने नहीं दूंगा, पहले…

ये भी पढ़ें -: तजिंदर पाल बग्गा की गिरफ्तारी पर हाईवोल्टेज ड्रामा, पंजाब पुलिस से छुड़ाकर ला रही दिल्ली पुलिस

सोर्स – thelallantop.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-