Politics

सुब्रमण्यम स्वामी बोले- जंग जैसे हैं हालात…मजबूत स्थिति में है चीन, घिरा हुआ है भारत

situation-is-like-war-china-is-in-a-strong-position-bjp-mp-subramanian-swamy
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने चीन के इरादों को लेकर मोदी सरकार को आगाह किया है। नेता ने एक चर्चा के दौरान कहा कि चीन के साथ हम युद्ध जैसी स्थिति में हैं। चीन लद्दाख में इस समय मजबूत स्थिति में है और उसे पाकिस्तान और तालिबान-अफगानिस्तान का साथ भी मिला हुआ है।

गौरतलब है कि विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने हाल ही में कहा था कि बीते एक साल से भारत-चीन संबंधों को लेकर बहुत चिंता पैदा हुई है क्योंकि चीन सीमा मुद्दे को लेकर समझौतों का पालन नहीं कर रहा है जिसकी वजह से द्विपक्षीय संबंधों की बुनियाद ‘‘गड़बड़ा’’ रही है। भारत और चीन के संबंधों के बारे में एक सवाल के जवाब में जयशंकर ने कहा, ‘‘मैं कहना चाहूंगा कि बीते चालीस साल से चीन के साथ हमारे संबंध बहुत ही स्थिर थे…चीन दूसरा सबसे बड़ा कारोबारी साझेदार के रूप में उभरा।

ये भी पढ़ें -: दिल्ली मैं अब बिना इजाजत लाउडस्पीकर बजाया तो लगेगा 1 लाख रुपये तक जुर्माना, देखें पूरी लिस्ट

एस जयशंकर ने आगे कहा, ‘‘लेकिन बीते एक वर्ष से, इस संबंध को लेकर बहुत चिंता पैदा हुई क्योंकि हमारी सीमा को लेकर जो समझौते किये गये थे चीन ने उनका पालन नहीं किया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘45 साल बाद, वास्तव में सीमा पर झड़प हुई और इसमें जवान मारे गये। और किसी भी देश के लिए सीमा का तनावरहित होना, वहां पर शांति होना ही पड़ोसी के साथ संबंधों की बुनियाद होता है। इसीलिए बुनियाद गड़बड़ा गयी है और संबंध भी।

मालूम हो कि पिछले साल मई की शुरुआत से पूर्वी लद्दाख में कई स्थानों पर भारत और चीन के बीच सैन्य गतिरोध बना। कई दौर की सैन्य और राजनयिक बातचीत के बाद फरवरी में दोनों ही पक्षों ने पैंगांग झील के उत्तर और दक्षिण तटों से अपने सैनिक और हथियार पीछे हटा लिये। विवाद के स्थलों से सैनिकों को वापस बुलाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए दोनों पक्षों के बीच अभी वार्ता चल रही है।

ये भी पढ़ें -: लखीमपुर खीरी की घटना पर CM योगी पर राबड़ी, बोली- राक्षस राज चल रहा, वो किस मुंह से अपने को बाबा और…

भारत हॉट स्प्रिंग्स, गोगरा और देपसांग से सैनिकों को हटाने पर विशेष तौर पर जोर दे रहा है। सेना के अधिकारियों के मुताबिक, वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर ऊंचाई पर स्थित संवेदनशील क्षेत्रों में प्रत्येक पक्ष के अभी करीब 50,000 से 60,000 सैनिक तैनात हैं।

विवाद के बाकी के स्थलों से सैनिकों की वापसी की दिशा में कोई प्रगति अब नजर नहीं आ रही है क्योंकि चीनी पक्ष ने 11वें दौर की सैन्य वार्ता में अपने रवैये में कोई नरमी नहीं दिखाई है।

ये भी पढ़ें -: पूर्व विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा का जब्त हो सकता है पासपोर्ट, विदेश भागने की आशंका, जानें पूरा मामला

ये भी पढ़ें -: टिकैत का बड़ा आरोप- 26 जनवरी की हिंसा में RSS वाले पुलिस ड्रेस में आए थे,संबित पात्रा ने दिया ये जवाब

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-