India

गैंग रेप और हत्या मामले में 20 महीने बाद भी नहीं मिला इंसाफ, दर-दर भटक रहे पीड़िता के पिता

sitamarhi-gang-rape-and-murder-2020-case-not-solved-news
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

सीतामढ़ी जिले के रंजीतपुर पश्चिमी गांव की 10वीं की मेधावी छात्रा के साथ बीते वर्ष 2020 के 11 अप्रैल को सामूहिक दुष्कर्म कर हत्या कर दी गयी थी. इतना ही नहीं हत्या के बाद शव को पेड़ से लटका दिया गया था. बदमाशों के द्वारा रेप के दौरान नाबालिग लड़की की मांग में सिन्दूर भी डाल दिया था.

हालांकि इस मामले में एक आरोपी को पीड़िता के परिजनों ने पकड़कर पुलिस के हवाले भी कर दिया था, लेकिन पुलिस इस मामले को नजर अंदाज करती हुई अन्य आरोपियों को गिरफ्तार करने या आगे की कार्रवाई करने में अब तक नाकाम ही साबित रही है. घटना के बाद से ही पीड़िता के परिजनों को केस में उठाने की धमकी दी जा रही है. इस संबंध में पीड़िता के परिवार के द्वारा वर्तमान एसपी हर किशोर राय को बीते 10 अगस्त को शिकायत भी की गयी थी लेकिन एसपी ने डीएसपी से बात करने का हवाला देकर पल्ला झाड़ लिया था.

यह भी पढ़ें -: मुजफ्फरनगर में RLD के पोस्टर पर बवाल, राकेश टिकैत ने तस्वीर लगाने पर कही ये बात…

पीड़िता के मज़दूर पिता ने बताया कि एसपी के द्वारा बोला गया की इस मामले में जो करेंगे वो डीएसपी ही करेंगे, उन्हीं से जाकर मिलिए. पीड़िता के पिता दर्जनों बार डीएसपी कार्यलय का चक्कर लगा चुके हैं, लेकिन उन्हें न्याय दिलाने में जिला पुलिस को कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रही है.

पीड़िता के पिता रामनरेश यादव ने बताया कि डीएसपी के द्वारा बोला गया कि पंचायत चुनाव के बाद कुछ करेंगे और पंचायत चुनाव खत्म होने के बाद पुनः पीड़िता के पिता अनुमंडल पुलिस कार्यलय पहुंचे, लेकिन उनकी मुलाक़ात डीएसपी साहब से नहीं हो सकी. मामले में मात्र एक आरोपी पप्पू राय की गिरफ्तारी हुई है. बाकी लड्डू राय, गुड्डू राय और उमाशंकर राय अभी तक गिरफ्तार नहीं किये गये हैं. इन आरोपियों के द्वारा बीते महीने जुलाई में घर पर जाकर पीड़िता के परिजनों से मारपीट भी की गई थी.

यह भी पढ़ें -: पत्रकार को मारने दौड़े गृह राज्य मंत्री टेनी तो कुमार विश्वास ने तंज कसते हुवे कही ये बात…

इतना ही नहीं उल्टा थाने में प्राथमिकी भी दर्ज कर दी गई और थाना से पीड़ित परिवार को नोटिस भी जारी किया गया. आरोपियों द्वारा परिजनों को धमकाते हुए कहा जाता है कई पुनौरा थाना को वह पॉकेट में रखते हैं. पीड़िता के पिता ने रुंधे गले से बताया कि आरोपी गांव का दबंग है. इसके कारण कोई डर से उसके खिलाफ नहीं बोलता. उधर देर शाम तक मामले को लेकर पुलिस का बयान लेने की कोशिश की गयी, लेकिन डीएसपी साहब ने मोबाइल पर ही गिरफ़्तारी का आश्वासन देते हुये पल्ला झाड़ लिया लेकिन कैमरे पर आने से इनकार कर दिया.

यह भी पढ़ें -: क्या हरभजन स‍िंंह शुरू करने वाले हैं राजनीतिक पारी? अटकले तेज़…

यह भी पढ़ें -: Vijay Diwas पर हरियाणा के गृहमंत्री बोले- अगर चाहते तो PoK ले सकते थे, लेकिन…

सोर्स – aajtak.in


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-