Politics

शिवराज सिंह बोले- भांग शिव जी बूटी है तो लोग बोले- भांग को राष्ट्रीय खाद्य पदार्थ घोषित कर देना चाहिए

shivraj-singh-chouhan-said-cannabis-is-the-herb-of-shiva
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

मध्य प्रदेश में शराब को लेकर लोग सरकार को घेरने में लगे हैं। कुछ दिन पहले पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने एक शराब की दुकान में तोड़-फोड़ की थी और शराब को बंद करने की मांग की थी। हालांकि इसके कुछ दिन बाद मध्य प्रदेश में शराब पहले की अपेक्षा सस्ती कर दी गई। अब शिवराज सिंह चौहान का एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें वह नशे के विरुद्ध अभियान को बढ़ावा देने की बात कह रहे हैं।

शिवराज सिंह चौहान उज्जैन में आयोजित नशा मुक्ति अभियान को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि “नशा, नाश की जड़ है। अब जब मैं नशे की बात कर रहा हूं तो भांग को छोड़कर बात कर रहा हूं। वो तो शिव जी की बूटी है भाई। लेकिन चाहे दारू का नशा हो , या चरस, हिरोइन का नशा हो, इनको तबाह करना है। अगर ये विश्वास हो जाए कि दारू बंद करने से नशा खत्म हो जायेगा तो हम एक दिन भी नहीं लगाएंगे।

ये भी पढ़ें -: यति का भड़काऊ भाषण, कहा- मर्द वो होता है, जो अपने पास हथियार रखता है

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि “दारू बंद करने से नशा बंद नहीं होता। इससे पहले नशा मुक्त समाज बनाएं, जैसे-जैसे नशा मुक्ति अभियान बढ़ेगा, लोग नशा छोड़ेंगे तो ये नशे की दुकानें अपने आप बंद हो जायेंगी।” सोशल मीडिया पर सीएम का यह वीडियो वायरल हो रहा है और लोग अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

ध्रुव बंसल नाम के यूजर ने लिखा कि “भगवान शिव ने तो विष भी पिया था, क्या आप वो भी ट्राय करना चाहेंगे?” कासिम नाम के यूजर ने लिखा कि “भांग खाकर, शराब पी सकते हैं।” हर्ष नाम के यूजर ने लिखा कि “सब लोग भंग पियो भाई दबा कर हर रोज, जड़ी बूटी है भाई। जय नाम के यूजर ने लिखा कि “एक तरफ तो शराब की कीमत कम करते हैं और दूसरी तरफ जनता को बेवकूफ बनाते हैं।”

ये भी पढ़ें -: चोर को गंगा स्नान कराने पर MP पुलिस के पुलिसकर्मियों को मिला नोटिस, जानें पूरा मामला

दिनेश चौहान नाम के यूजर ने लिखा कि “ये मामाजी इतना बता दें कि भांग शिवजी का प्रसाद है तो किसान भांग की खेती कर सकते हैं। कम से कम हमारी आय दोगुनी हो सकती, फिर अनाज उगाने की जरूरत नहीं।” इमिद्रिशी नाम के यूजर ने लिखा कि “इनके हिसाब से भारत में भांग को राष्ट्रीय खाद्य पदार्थ घोषित कर देना चाहिए।

नीलेश नाम के यूजर ने लिखा कि “नशे की सारी दवाईयों की सरकार के परमिशन से ही राज्य में बिक्री होतीं हैं, नशा गांव गांव तक फैलाकर खूब धन कमाया जा रहा है लेकिन बोलने में क्या जाता है।” पवन नाम के यूजर ने लिखा कि “इनके राज्य में अभी-अभी 1 अप्रैल से नशा सस्ता हो गया है, मैं जब नशे की बता रहा हूं तो भांग छोड़कर शराब की बात कर रहा हूं।

ये भी पढ़ें -: 11 साल की उम्र में दुधमुंहे भाई को गोद लेकर जाती है स्कूल, फ़ोटो हुवी वायरल…

ये भी पढ़ें -: श्रीलंका में सियासी संकट : PM को छोड़ पूरी कैबिनेट ने दिया इस्तीफा

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-