Shivpal Yadav in SP: शिवपाल यादव हुए सपा में शामिल, पार्टी का भी किया विलय

Shivpal Yadav in SP: शिवपाल यादव हुए सपा में शामिल, पार्टी का भी किया विलय
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Shivpal Singh Yadav joins Samajwadi Party: मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव (Mainpuri Loksabha Election Results) में डिंपल यादव (Dimple Yadav) की जीत के साथ ही समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) का कुनबा भी एक हो गया है। उपचुनाव में समाजवादी पार्टी की बंपर जीत के बाद प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) के प्रमुख शिवपाल सिंह यादव (Shivpal Singh Yadav) सपा में शामिल हो गए।

इसके साथ ही उन्होंने अपनी पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी का भी विलय सपा में कर दिया। जैसे ही प्रसपा का सपा में विलय का ऐलान हुआ, उसके साथ ही शिवपाल यादव की गाड़ी का झंडा भी बदल दिया गया है। शिवपाल यादव के समर्थकों ने उनकी गाड़ी पर से प्रसपा का झंडा हटाकर सपा का झंडा लगा दिया।

शिवपाल के सपा में जॉइन होने के बाद उनके समर्थकों ने कहा कि अब भाजपा की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। उन्होंने कहा कि चाचा और भतीजे के एक साथ आने से हो सकता है कि 2027 से पहले ही प्रदेश से भाजपा का सफाया हो जाए।

ये भी पढ़ें -: हिमाचल में भाजपा ने शुरू किया गेम, निर्दलियों से संपर्क, विनोद तावड़े को शिमला भेजा

बता दें कि मैनपुरी लोकसभा उपचुनाव में डिंपल यादव ने 2 लाख से अधिक वोटों से बीजेपी उम्मीदवार को हराया। बीजेपी उम्मीदवार रघुराज सिंह शाक्य खुद अपने बूथ पर 187 वोटों से हार गए। लोकसभा उपचुनाव में डिंपल के उम्मीदवार बनते ही शिवपाल सिंह यादव उनके लिए प्रचार करने लगे थे। अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह यादव ने एक साथ कई जनसभाएं की थी।

इसके पहले 12 बजे शिवपाल यादव ने वोटरों को धन्यवाद देते हुए ट्वीट किया, “मैनपुरी संसदीय क्षेत्र के मतदाताओं से मिले आशीर्वाद, स्नेह व अपार जनसमर्थन के लिए सम्मानित जनता, शुभचिंतकों, मित्रों व कर्मठ कार्यकर्ताओं का हृदय से आभार। जसवंतनगर की सम्मानित जनता द्वारा श्रीमती डिम्पल यादव जी को दिए गए आशीर्वाद के लिए जसवंतनगर वासियों का सहृदय धन्यवाद।

बता दें कि मैनपुरी लोकसभा सीट को समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव की प्रतिष्ठा से जोड़कर देखा जा रहा था क्योंकि इससे पहले हुए लोकसभा उपचुनावों में रामपुर और आजमगढ़ सीट पर सपा की हार हुई थी और बीजेपी की जीत हुई थी। इसी कारण मैनपुरी, जिसे समाजवादी पार्टी का गढ़ माना जाता था, इसे बचाना समाजवादी पार्टी की साख के लिए बेहद जरूरी माना जा रहा था।

ये भी पढ़ें -: सरकार से बोला SC- मंत्रियों को समझाएं कि कॉलेजियम पर ना बोलें, हम संसद के कानून खारिज कर दें तो ?

ये भी पढ़ें -: BJP के टिकट पर जीते सलीम खान के समधी अनिल शर्मा, पिता भी रहे हैं केंद्रीय मंत्री


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-