Politics

अखिलेश यादव से मिले संजय सिंह, UP की राजनीति गरमाई

sanjay-singh-meets-samajwadi-party-chief-akhilesh-yadav
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में अब छह महीने से कुछ ज्यादा समय ही रह गया है। इस बीच राज्य में सियासी सरगर्मियां तेज हैं। सभी विपक्षी दल सत्तीसन भाजपा सरकार को हराने के लिए तैयारियों में जुटी हैं। ज्यादातर मुख्यधारा के दलों ने इस बार चुनाव से पहले गठबंधन से इनकार कर दिया है। हालांकि, नेताओं के बीच कई बार एक-दूसरे से मिलने की तस्वीरें सामने आ जाती हैं। ताजा मामला आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह और समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव की मुलाकात से जुड़ा है।

बताया गया है कि संजय सिंह ने सपा के लखनऊ स्थित दफ्तर पहुंचे और अखिलेश यादव से मुलाकात की। बैठक से बाहर आने के बाद पत्रकारों से बातचीत में संजय सिंह ने कहा कि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के जन्मदिन पर मैं यहां था नहीं, आज उनको विश करने के लिए, बधाई और शुभकामनाएं देने के लिए मैं यहां आया था। संजय सिंह ने इसे शिष्टाचार बैठक बताते हुए कहा कि निश्चित तौर पर प्रदेश में पंचायत चुनाव में जो कुछ घटित हो रहा है, उस बारे में भी बातचीत हुई।

ये भी पढ़ें -: सुब्रमण्यम स्वामी बोले- लगता है नेहरू की बीमारी ने मोदी के शरीर पर भी किया है हमला

25-25 जिला पंचायत अध्यक्ष अगर यूपी में निर्विरोध चुने जा रहे हैं, तो इसका मतलब है कि इस चुनाव को आदित्यनाथ जी की सरकार ने अपह्रत कर लिया है। इससे ठीक पहले शनिवार को हो रहे जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव के दौरान कई जिलों में समाजवादी पार्टी और भाजपा के कार्यकर्ताओं को भिड़ने की खबरें सामने आई हैं। बताया गया है कि दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच संभल के अलावा अयोध्या, बलिया और बरेली में भी जमकर धक्का-मुक्की हुई।

यूपी चुनाव से पहले AAP भी सक्रिय हुई: बता दें कि आप सांसद संजय सिंह उत्तर प्रदेश के प्रभारी हैं। वे पिछले कुछ दिनों में राज्य में पार्टी का दायरा बढ़ाने के लिए काफी सक्रिय हुए हैं। उन्होंने राम मंदिर में हुए कथित जमीन घोटले और पंचायत चुनाव को लेकर भाजपा सरकार को घेरकर जमीन हासिल करने की कोशिश की है।

ये भी पढ़ें -: जयपुर में बनने जा रहा है देश का दूसरा औऱ दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टेडियम, जानें सबकुछ…

सपा पहले ही कर चुकी है किसी भी बड़े दल से गठबंधन से इनकार: समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में किसी भी बड़े राजनीतिक दल से गठबंधन से साफ इंकार कर चुके हैं। हालांकि, उन्होंने छोटी पार्टी के लिए दरवाजे खुले होने की बात भी कही थी। ऐसे में अखिलेश यादव से उनकी मुलाकात ने सियासी गलियारों में हलचल पैदा कर दी है।

ये भी पढ़ें -: आमिर खान और किरण राव का हुआ तलाक, कही ये बात…

ये भी पढ़ें -: केएल राहुल बोले- कप्तान मतलब “एमएस धोनी” उनके लिए गोली खा सकते है औऱ…

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-