Politics

कांग्रेस नेता बोले- धारा 370 बहाल होनी चाहिए तो संबित पात्रा ने भड़के हुवे कही ये बात… Video देखें

saifuddin-soz-says-article-370-restore-bjp-sambit-patra-reply
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते साल 2019 में जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद आज दिल्ली में अपने आवास पर जम्मू कश्मीर के शीर्ष राजनीतिक नेताओं के साथ बातचीत की। इस बैठक में उनके साथ चार पूर्व मुख्यमंत्री सहित 14 नेता शामिल हुए। इस बैठक को लेकर सियासी अटकलें भी तेज हो गई हैं तो वहीं दूसरी तरफ आजतक के डिबेट शो दंगल में भी मामले पर चर्चा की गई। डिबेट के दौरान ही कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज ने कहा कि आर्टिकल 370 बहाल किया जाना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने सरकार पर हेरा-फेरी करने का भी आरोप लगाया। उनकी इस बात को लेकर संबित पात्रा ने जबरदस्त जवाब दिया।

सैफुद्दीन सोज ने कश्मीर मुद्दे पर बात करते हुए कहा, “मैं मोदी जी की बातचीत की पहल का स्वागत करता हूं। लेकिन मोदी जी इसी बातचीत के जरिए अपनी राय थोप देंगे कश्मीर पर, वो कभी नहीं होगा। कश्मीर के लोग इस वक्त नाराजगी के दौर में हैं। हम सेक्युलर हिंदुस्तान में आ गए, लेकिन आज सेक्युलर हिंदुस्तान की बोली बदल गई है।

ये भी पढ़ें -: न्यूज़क्लिक के ख़िलाफ़ दंडात्मक कार्रवाई पर रोक, हाईकोर्ट ने ED से माँगा जवाब

कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज ने इस बारे में आगे कहा, “वो घसीटना चाहते हैं हमें। हम कश्मीरियों ने जब मुल्क का साथ दिया है तो हमारी भावनाओं की भी कद्र होनी चाहिए। आपने एकतरफा 370 को हटाया है।” डिबेट के दौरान उनसे पूछा गया कि आर्टिकल 370 पर उनकी क्या सोच है? इसका जवाब देते हुए सैफुद्दीन सोज ने कहा, “आज नहीं तो कल इसे बहाल किया जाना चाहिए। जम्मू और कश्मीर के लोगों के साथ जो एग्रीमेंट हुआ है, उसका सरकार ने अपमान किया है। इसमें आपने हेरा-फेरी की है। एग्रीमेंट चोरी-छुपे नहीं हुआ था।

ये भी पढ़ें -: BJP के गौरव भाटिया का वीडियो वायरल, बोले थे – BJP और RSS वाले ही कराते हैं दंगा

कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज की इन बातों का जवाब देने से संबित पात्रा भी पीछे नहीं हटे। उन्होंने इसपर कहा, “मैं इनकी बात से बिल्कुल भी सहमत नहीं हूं। सदन के पटल पर सघन चिंतन के बाद सभी राजनीतिक पार्टियों के नुमाइंदों के बीच, सभी ने अपने-अपने विषय को रखा था।

संबित पात्रा ने मामले को लेकर आगे कहा, “सभी ने इस मामले पर वोटिंग की थी। 370 सांसदों ने इस विषय के पक्ष में अपनी राय रखी थी और उनका भी मानना था कि आर्टिकल 370 हटाया जाना चाहिए। ये संविधान का अस्थाई प्रावधान है, जिसे कभी भी स्थाई नहीं बनाया जा सकता है।

ये भी पढ़ें -: अब दिल्ली BJP में घमसान, वॉट्सऐप ग्रुप्स से निकाले गए तेजिंदर बग्गा और नेहा दुआ

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-