Politics

भारतीय मीडिया के यूक्रेन युद्ध कवरेज पर भड़का रूस, एजवाइजरी की जारी

Russia Ukraine War
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Russia Ukraine War : रूस यूक्रेन युद्ध की कवरेज (Russia Ukraine War) को लेकर रूसी दूतावास ने भारतीय मीडिया से नाराजगी जताई है। नई दिल्ली में स्थित रूसी दूतावास (Russian Embassy Delhi) ने एडवाइजरी जारी कर भारतीय मीडिया से सटीक और निष्पक्ष सूचनाएं देने का अनुरोध किया है। रूसी दूतावास ने कहा कि यूक्रेन में संकट के संबंध में भारतीय मीडिया से सटीक होने का अनुरोध किया जाता है ताकि भारतीय जनता को ऑब्जेक्टिव इंफॉर्मेशन मिल सके।

दूतावास ने सफाई देते हुए कहा कि रूस ने यूक्रेन और उसके लोगों के खिलाफ युद्ध नहीं छेड़ा है। यह यूक्रेन के डोनबास में आठ साल के युद्ध को खत्म करने के लिए चलाया जा रहा खास सैन्य अभियान है। इसका मकसद यूक्रेन के सैन्यीकरण और नाजीकरण को खत्म करना है। रूसी दूतावास ने एक के बाद एक ट्वीट करते हुए कहा कि रूसी सेना अत्यधिक संयम दिखा रही है। वह यूक्रेनी नागरिकों और शहरों पर हमला नहीं कर रही है।

यह भी पढ़ें -: सुशांत की मैनेजर दिशा सलियन मामले पर केंद्रीय मंत्री राणे और उनके बेटे पर FIR

रूसी सेना सिर्फ सैन्य बुनियादी ढांचे को टॉरगेट कर रही है। दूतावास ने यह भी दावा किया है कि रूसी सेना यूक्रेन के उलट प्रतिबंधित हथियारों का इस्तेमाल नहीं कर रही है। ट्वीट में यह भी दावा किया गया है कि रूसी सेना नागरिकों को मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल नहीं करती है। इसके अलावा रूसी सेना युद्ध के कैदियों के साथ अधिकतम सम्मान के साथ व्यवहार करती है। दूतावास ने कहा कि रूस ने बार-बार पहल की और बातचीत और वार्ता के लिए अपनी तत्परता का संकेत दिया है। बयान में यह भी बताया गया है कि ️यूक्रेन में परमाणु स्थल सुरक्षित हैं। इसकी पुष्टि अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी ने भी की है।

दूतावास ने कहा कि इसके उलट दी जा रही कोई भी जानकारी पक्षपाती और भ्रामक है। रूसी दूतावास इससे पहले भी कई बार भारतीय मीडिया की रिपोर्टिंग पर नाराजगी जाहिर कर चुका है। हाल में ही ऐसी रिपोर्ट आई थी कि रूसी सेना ने कीव, खारकीव और चेरनोबिल में परमाणु कचरे वाले ठिकानों को निशाना बनाया है। यूक्रेनी सरकार ने दावा किया था कि रूसी मिसाइल हमले में कीव में परमाणु कचरा स्थल को नुकसान पहुंचा है।

यह भी पढ़ें -: नीतीश सरकार का बड़ा फैसला- शराब पीने पर अब नहीं होगी जेल

जानकारी मिलने के बाद अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी ने कीव में रेडिएशन लेवल की जांच भी की है। इसके अलावा यह भी खबर आई थी कि रूसी सेना ने यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव में परमाणु कचरा स्थल की इलेक्ट्रिक ट्रांसफॉर्मर को निशाना बनाया था। इससे पूरे साइट पर अंधेरा छा गया था।

दुनिया के सबसे भीषण परमाणु हादसे वाली जगहों में से एक चेरनोबिल में भी युद्ध के पहले ही दिन रूसी सेना ने हमला किया था। खुद यूक्रेनी राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने दावा किया था कि रूसी सेना के हमले में चेरनोबिल की परमाणु ईकाई को नुकसान पहुंचा है, हालांकि रूस ने इस दावे को खारिज कर दिया था। इस जगह पर 26 अप्रैल 1986 को एक बड़ा हादसा हुआ था, जिसका सबूत आज भी यहां मौजूद है।

यह भी पढ़ें -: नई आबकारी नीति पर AAP-BJP आमने-सामने, दिल्ली में कराएगी जनमत संग्रह

यह भी पढ़ें -: CM योगी आपके सिराथू प्रचार करने क्यों नहीं आए? सवाल सुन झल्ला गए केशव प्रसाद मौर्य

सोर्स – navbharattimes.indiatimes.com. Russia Ukraine War


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-