Politics

भारत को भारत रहना है तो भारत को हिंदू रहना ही पड़ेगा : मोहन भागवत, RSS

rss-chief-mohan-bhagwat-addressed-event-in-gwalior-hindutva-issue-strength-of-hindus
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

RSS Chief Mohan Bhagwat : RSS प्रमुख मोहन भागवत (RSS chief Mohan Bhagwat) ने कहा है कि हिंदू और भारत अलग नहीं हो सकते हैं. भारत को भारत रहना है तो भारत को हिंदू रहना ही पड़ेगा. हिंदू को हिंदू रहना है तो भारत को अखंड बनना ही पड़ेगा. ये बातें उन्होंने मध्य प्रदेश के ग्वालियर में आयोजित एक कार्यक्रम में कहीं.

उन्होंने कहा कि ये हिंदुस्तान है और यहां परंपरा से हिंदू लोग रहते आए हैं. जिस-जिस बात को हिंदू कहते हैं उन सारी बातों का विकास इस भूमि में हुआ है. भारत की सारी बातें भारत की भूमि से जुड़ी हैं, संयोग से नहीं.

यह भी पढ़ें -: कृषि कानून वापस लेकिन गुस्सा जारी, शादी कार्ड पर लिखा- BJP-RSS के लोग दूर रहें

संघ प्रमुख ने कहा कि हिंदू के बिना भारत नहीं और भारत के बिना हिंदू नहीं. भारत टूटा, पाकिस्तान हुआ क्योंकि हम इस भाव को भूल गए कि हम हिंदू हैं, वहां के मुसलमान भी भूल गए. खुद को हिंदू मानने वालों की पहले ताकत कम हुई फिर संख्या कम हुई इसलिए पाकिस्तान भारत नहीं रहा.

इससे पहले नोएडा में पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में मोहन भागवत ने कहा था कि विभाजन कोई राजनैतिक प्रश्न नहीं है, बल्कि यह अस्तित्व का प्रश्न है. भारत के विभाजन का प्रस्ताव स्वीकार ही इसलिए किया गया, ताकि खून की नदियां ना बहें, लेकिन उसके उलट तब से अब तक कहीं ज्यादा खून बह चुका है.

यह भी पढ़ें -: कृषि मंत्री ने किसानों के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेने के सवाल पर कही ये बात… पढ़ें…

सरसंघचालक भागवत ने कहा था कि भारत का विभाजन उस समय की परिस्थिति से ज्यादा इस्लाम और ब्रिटिश आक्रमण का परिणाम था. हालांकि गुरुनानक जी ने इस्लामी आक्रमण को लेकर हमें पहले ही चेताया था. उन्होंने कहा कि भारत का विभाजन कोई उपाय नहीं है, इससे कोई भी सुखी नहीं है. अगर विभाजन को समझना है, तो हमें उस समय से समझना होगा.

यह भी पढ़ें -: करप्शन केस में इलाहाबाद HC के रिटायर जज पर चलेगा मुकदमा, जानें पूरा मामला…

यह भी पढ़ें -: पंजाब मैं टंकी पर चढ़ प्रदर्शन कर रहे शिक्षक से केजरीवाल बोले- नीचे आ जाओ, नहीं तो धरने पर बैठ जाऊंगा

सोर्स – aajtak.in.  RSS Chief Mohan Bhagwat


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-