India

लोकतंत्र का सबसे बड़ा ख़तरा पैसावाद है, पैसा किसका है प्रधानमंत्री नहीं बताएंगे : रवीश कुमार

ravish-kumar-says-the-biggest-danger-of-democracy-is-money-debate
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

अब आप शायर रावल की रिपोर्ट देखें। दिव्य भास्कर के शायर रावल की एक बार और बार चर्चा की है। गांधीनगर में निगम चुनाव हुए थे। इसके लिए भाजपा के उम्मीदवारों ने हलफनामा दिया। 41 उम्मीदवारों के हलफनामे में ग़लतियां भी एक जैसी है। खर्चे का जो हिसाब है वह तो और भी कमा है। सभी 41 उम्मीदवारों ने 1,33,380 ₹ ख़र्च किए हैं। हैं न कमाल का हिसाब और संयोग। राज्य चुनाव आयोग पर जनता का पैसा ख़र्च ही क्यों हो रहा है। अब आयोग को आधिकारिक रुप से बंद कर देना चाहिए ताकि इसका पैसा बच जाए। जब उनसे काम नहीं हो रहा है तो फिर क्या फायदा।झूठ मूठ कर रिश्तेदारी में हल्ला होता होगा कि चुनाव आयोग में चले गए हैं। संवैधानिक हो गए हैं।

गेम देखिए, सभी 41 उम्मीदवारों ने डीजे से लेकर चाय की दुकान का बिल एक ही जगह का दिया है। गांधी नगर के एक वार्ड का नाम महात्मा मंदिर है। वहां के भाजपा उम्मीदवार ने भी वही काम किया है। अलग अलग 41 वार्ड एक ही जगह से सभी कुछ खरीदते हैं। एक ही जगह का बिल देते हैं और ख़र्चा भी एक समान दिखाते हैं।

यह भी पढ़ें -: कंगना रनौत हिजाब विवाद में लेकर आईं अफगानिस्तान तो शबाना आजमी ने दिया जवाब

ravish min

प्रधानमंत्री ध्यान भटकाने के लिए पैसावाद के इस खेल से आपका ध्यान भटकाने के लिए परिवारवाद को लोकतंत्र का ख़तरा बताते हैं। लोकतंत्र का सबसे बड़ा ख़तरा राजनीतिक दल अपने हिसाब से तय करते हैं। जनता को अपनी नज़र से उन ख़तरों को देखना चाहिए। परिवारवाद भी ख़तरा है और पैसावाद भी। इन दोनों से बड़ा ख़तरा कुछ और है। जो आप देख रहे हैं। गोदी मीडिया। लेकिन प्रधानमंत्री ने अपने लिए लोकतंत्र का सबसे बड़ा ख़तरा परिवारवाद चुन लिया। आखिर जब तमाम ख़तरों को लेकर उन पर आरोप लग रहे हैं तो वे भी तो कुछ लगाएंगे।

यह भी पढ़ें -: राजस्थान मैं Hijab से जुड़ी आपत्तिजनक पोस्ट शेयर करने पर 2 पुलिसकर्मी सस्पेंड

अभी जो ख़तरा दिख रहा है वह यह कि उनके शासन के नीचे संस्थानों को ख़त्म किया जा रहा है। लोकतंत्र की चुनौतियां केवल पार्टी में नहीं हैं, संस्थाओं में भी हैं। कितनी आसानी से कह दिया कि ED CBI अपना काम करती रहती हैं, निष्पक्ष हैं। बीच में चुनाव आ जाता है। हंसी आ जाती है। चुनाव के समय केवल विपक्ष के ही लोग धरे जाते हैं। और ED जैसी निष्पत्र एजेंसी के सीनियर आई पी एस अफसर इस्तीफा देकर बीजेपी से चुनाव भी लड़ते हैं।

यह भी पढ़ें -: सोनम कपूर पर भड़के BJP नेता मनजिंदर सिंह सिरसा, सिख पगड़ी से की थी हिजाब की तुलना

यह भी पढ़ें -: मोहम्मद महबूब ने रेल पटरियों पर लेटकर 3 साल की बच्ची की यूं बचाई जान, देखें वीडियो…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-