India

गोदी मीडिया भारत पाकिस्तान मैच का प्रसारण में जी जान लगा देगा : रवीश कुमार

the-truth-of-the-rumor-about-ravish-kumars-resignation
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच पर कब आतंक का साया पड़ जाता है और कब हट जाता है, यह इस बात से तय होता है कि कब नेता जनता को बेवकूफ बनाते हैं और कब जनता नेता से कहती हैं कि हमें बेवकूफ बनाइये।ऐसे ही यह जनता 114-118 रुपये लीटर पेट्रोल नहीं ख़रीद रही है। यह जनता इससे भी महंगा पेट्रोल ख़रीदेगी क्योंकि उसने अब देखना और सोचना बंद कर दिया है।

“एक अंतराष्ट्रीय आयोजन का हिस्सा है,आपका क्या मानना है कि हम कोई चैंपीयन्स ट्राफी न खेले, इंटरनेशनल लीग में से बाहर हो जाए, न हम पाकिस्तान जाते हैं न पाकिस्तान यहां आता है, लेकिन जो इंटरनेशनल फोरम है वहां पर तो मैचेस होंगे ही होंगे।”

अमित शाह का यह बयान जून 2017 का है। अब आप इसे तर्क की कसौटी पर देखें। भारत और पाकिस्तान एक दूसरे के देश में नहीं खेलेंगे लेकिन दुबई और लंदन में खेल सकते हैं। क्योंकि वह इंटरनेशनल लीग है। तो हिन्दी में ज़रा बताइये कि भारत और पाकिस्तान के बीच अगर द्विपक्षीय मैच सीरीज़ होती है तो क्या इसे इंटरनेशनल मैच की मान्यता नहीं होती है? आत्म निर्भर भारत के लिए क्या यह अच्छा नहीं होता कि इस तरह के मैच भारत में भी खेले जाएं ताकि खेल से आने वाला राजस्व भारत की संस्थाओं को मिले? यह कैसी दूरी है कि दोनों तीसरे देश में एक दूसरे के साथ मैच खेलते हैं। अपने देश में नहीं खेलते हैं। आतंकवाद की बड़ी और छोटी घटना में फर्क नहीं किया जा सकता है। उसी तरह इंटरनेशनल चैंपीयन शिप और द्विपक्षीय मैच में भी फर्क नहीं किया जा सकता है।

आज शाम जब जनता भारत और पाकिस्तान के बीच T-20 मैच देखेंगे तब उनके ज़हन से हिन्दू ख़तरे है कि राजनीति का उत्पादित क्रोध नहीं होगा। ऐसा नहीं है कि इस वक्त आतंकी हमले नहीं हुए हैं और पाकिस्तान के हाथ होने और उसे चेताने के बयान नहीं आए हैं। इसी महीने जब कश्मीर में कश्मीरी पंडित और प्रवासी मज़दूरों की हत्या हुई तब अमित शाह का बयान आया था कि वे पाकिस्तान को सबक सिखाना अच्छी तरह जानते हैं। उन्होंने फिर से सर्जिकल स्टाइक की बात की लेकिन इसके बाद भी मैच हो रहा है और लोग देखेंगे। कश्मीरी पंडितों की हत्या और पलायन की राजनीति करने वाली भाजपा की मोदी सरकार इस मैच में भारत की जीत पर ट्विट भी करेगी और मुमकिन है प्रधानमंत्री हेडलाइन में आने के लिए कप्तान से फोन पर बात भी कर लें।

वैसे अमित शाह कभी इस तरह की चेतावनी चीन को लेकर नहीं देते हैं। धारा 370 के हटने के समय अमित शाह ने संसद में जो भाषण दिया था उसे सुनिएगा। बड़े जोश में कहा था कि अक्साई चीन भी लेंगे लेकिन उसके बाद फिर अक्साई चीन का नाम नहीं लिया। उल्टा चीन लद्दाख में धमक गया और मीडिया को मैनेज कर वास्तिवकता पर पर्दा डाला गया। अगस्त 2019 में अमित शाह ने लोकसभा में कहा था कि “अक्साई चीन जम्मू कश्मीर का हिस्सा है और हम इसके लिए जान भी दे सकते हैं। जब जम्मू कश्मीर बोलता हूं तो पीओ के इसी के अंदर आता है, भारत का हिस्सा नहीं मानते हो क्या, जान दे देंगे इसके लिए। जान दे देंगे इसके लिए। हंगामा…होता है…सभापति महोदय मैं एक बात रिकार्ड पर रखना चाहता हूं जब मैं सदन में जब जब राज्य बोला हूं तब तब पाक अधिकृत कश्मीर और अक्साई चीन दोनों इसका हिस्सा है। इसे रखा हूं। हमारे संविधान ने जो जम्मू कश्मीर की सीमाएं तय की हैं उसके अंदर पाक अधिकृत कश्मीर और अक्साई चीन समाहित हैं।”

यह भी पढ़ें -: 30₹ पेट्रोल देने की बात करने वाले रामदेव अब बोले- आर्थिक चुनौतियां हैं, सरकार भी चलानी है

बेहतर यही है क्रिकेट का मैच होता रहे। आज जब आप इस मैच को देखेंगे तो इसी बात को साबित करेंगे। देश के ज़रूरी मुद्दों पर पर्दा डालने के लिए गोदी मीडिया के जो ऐंकर भारत पाक मैच के खिलाफ नफरती माहौल तैयार करते थे आज उनके चैनलों पर इस मैच का विश्लेषण होगा। माहौल में एक चालाकी भी होगी। युद्ध वाला तेवर ले आएँगे।
जैसे इस मैच का कवरेज इसलिए हो रहा है क्योंकि भारतीय टीम इसके ज़रिए कश्मीर में आतंकी घटनाओं का बदला लेने जा रही है। इस तरह आज भी ये चैनल आपको बेवकूफ बनाने वाले हैं। लेकिन आप चिन्ता न करें। आप बेवकूफ नहीं है इसे साबित करने के लिए बाहर जाइये और 118 रुपया लीटर पेट्रोल भराइये।

गिरिराज सिंह से अनुरोध है कि वे भी इस मैच को देखें और राजनीति में ज़रूरी मुद्दों की बात करें। धर्म की आड़ में नेतागीरी चमकाना कोई बड़ी बात नहीं होती है। ये काम कोई भी कर लेता है। अमित शाह के बेटे बीसीसीआई के अध्यक्ष हैं। इसलिए बिज़नेस के पहलुओं को बदनाम करने की कोशिश मत कीजिए। मैं तो क्रिकेट का नियमित दर्शक नहीं हूँ लेकिन आप देखिएगा क्योंकि आपने ही इस राजनीति को खड़ा किया है, आप ही मैच देखते हुए अपनी इस राजनीति का मज़ाक़ उड़ा रहे होंगे। मैं आपको देख रहा होऊँगा।

यह भी पढ़ें -: आर्यन खान केस में प्राइम विटनेस बोला- NCB ने खाली कागज पर जबरन कराए हस्ताक्षर

यह भी पढ़ें -: दूसरे धर्म की लड़की से प्यार करने पर 34 साल के लड़के की हत्या, इस हालत में मिला शव…


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-