Politics

नकली नोटों पर RBI की रिपोर्ट पर राहुल का केंद्र पर वार- नोटबंदी ने कभी न भूल पाने वाली चोट दी…

rahul-gandhi-attack-on-modi-govt-over-rbi-report-on-fake-500-and-2000-notes
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा नकली नोटों को लेकर जारी डेटा को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. राहुल गांधी ने नोटबंदी का जिक्र करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने 8 नवंबर 2016 को देश को अचानक लाइन में लगा दिया था. लोग अपना ही पैसा निकालने के लिए तरस गए थे. उन्होंने कहा, राजा के एक तानाशाही फरमान ने जनता को कभी न भूल पाने वाली चोट दी है, नोटबंदी का दर्द देश कभी नहीं भूलेगा.

राहुल गांधी ने फेसबुक पोस्ट में लिखा, ”8 नवंबर 2016, नोटबंदी के नाम पर देश को अचानक लाइन में लगा दिया गया. लोग अपना ही पैसा निकालने के लिए तरस गए, कई घरों में शादियां थी, बच्चों और बुजुर्गों के इलाज चल रहे थे, गर्भवती महिलाएं थी लेकिन लोगों के पास पैसे नहीं थे, घंटों लाइन में लगने की वजह से कई लोगों की मृत्यु हो गई.

ये भी पढ़ें -: BJP विधायक बोले- RSS का झंडा एक दिन राष्ट्रीय ध्वज बनेगा, इसमें कोई संदेह नहीं…

राहुल गांधी ने लिखा, 2022 में RBI के हवाले से खबर आयी कि बैंक में पहुंचे 500 के 101.9% और 2 हजार के 54.16% से ज्यादा नोट, नकली हैं. 2016 में जहां 18 लाख करोड़ ‘कैश इन सर्कुलेशन’ में था, वहीं आज 31 लाख करोड़ ‘कैश इन सर्कुलेशन’ में है. सवाल है कि आपके ‘डिजिटल इंडिया’, ‘कैशलेस इंडिया’ का क्या हुआ, प्रधानमंत्री जी?

कांग्रेस नेता ने लिखा, नोटबंदी के वक्त मैंने कहा था कि ये ‘राष्ट्रिय त्रासदी’ है. गलतफहमी में मत रहिए- मोदी जी से गलती नहीं हुई, ये जानबूझ कर किया गया है ताकि आम जनता के पैसे से ‘मोदी-मित्र’ पूंजीपतियों का लाखों करोड़ रुपये कर्ज माफ किया जा सके और उनके कालेधन को सफेद किया जा सके. राजा के एक तानाशाही फरमान ने जनता को कभी न भूल पाने वाली चोट दी है, नोटबंदी का दर्द देश कभी नहीं भूलेगा.

ये भी पढ़ें -: JNU में पढ़ाई, जामिया मिलिया से कोचिंग, जानें कैसा रहा UPSC टॉपर श्रुति शर्मा का सफर

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने हाल में अपनी वार्षिक रिपोर्ट जारी की है. इसमें वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान बैंकिंग सेक्टर की पकड़ में आए नकली नोटों का डेटा भी दिया गया है. इसके हिसाब से नई डिजाइन वाले 500 रुपये के नकली नोटों की संख्या सालाना आधार पर 102% बढ़ी है. रिपोर्ट के मुताबिक, बैंकिंग सेक्टर ने 2021-22 के दौरान नई डिजाइन वाले कुल 79,669 नकली नोट पकड़े हैं. पिछले वित्त वर्ष 2020-21 में इनकी संख्या महज 39,453 थी.

2000 के नकली नोट बढ़े 55% सरकार ने नई डिजाइन वाले 500 रुपये के नोट के साथ ही देश में 2,000 रुपये के नए नोट भी चालू किए थे. इस साल 2,000 रुपये मूल्य वाले भी 13,604 नकली नोट बैंकिंग सेक्टर में पकड़े गए हैं. इनकी टोटल मनी वैल्यू 2,72,08,000 रुपये है.

ये भी पढ़ें -: दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन को ईडी ने किया गिरफ़्तार, जानें पूरा मामला…

ये भी पढ़ें -: महिला क्रिकेटर्स ने की आपस में शादी, मैदान से शुरू हुई थी लव स्टोरी

सोर्स – aajtak.in


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-