Entertainment

R Madhavan बोले- रॉकेट लॉन्च के लिए ‘ISRO’ ने हिंदू कैलेंडर पंचांग से ली मदद, हुए ट्रोल

20220626 194137 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

एक्टर आर माधवन अपनी अपकम‍िंग डायरेक्टोर‍ियल डेब्यू रॉकेट्री: द नांबी इफेक्ट की रिलीज के लिए तैयार हैं. फिल्म के प्रीम‍ियर से पहले एक्टर इसके प्रमोशन में लगे हुए हैं. लेक‍िन हाल ही में आर माधवन ने कुछ ऐसा कह दिया क‍ि वे ट्रोल होने लग गए. एक प्रमोशनल इवेंट में आर माधवन ने कहा क‍ि हिंदू कैलेंडर पंचांग की मदद से ISRO को अपने मार्स मिशन में रॉकेट लॉन्च करने में मदद मिली थी. आर माधवन ने तमिल में ये बातें कही जिसे म्यूज‍िश‍ियन टीएम कृष्णा ने ट्रांसलेट कर दुन‍िया को बताया है.

आर माधवन ने कहा- ‘भारतीय रॉकेट्स के पास तीन इंजन (solid, liquid और cryogenic) नहीं थे जो क‍ि वेस्टर्न रॉकेट्स को मार्स के ऑर्ब‍िट में आगे बढ़ने में मदद करता है. चूंक‍ि, भारत में ये नहीं होने की वजह से, उन्होंने पंचांग (हिंदू कैलेंडर) की जानकारी का इस्तेमाल किया. आर माधवन ने कहा- ‘भारतीय रॉकेट्स के पास तीन इंजन (solid, liquid और cryogenic) नहीं थे जो क‍ि वेस्टर्न रॉकेट्स को मार्स के ऑर्ब‍िट में आगे बढ़ने में मदद करता है. चूंक‍ि, भारत में ये नहीं होने की वजह से, उन्होंने पंचांग (हिंदू कैलेंडर) की जानकारी का इस्तेमाल किया.

ये भी पढ़ें -: शिंदे पर उद्धव ठाकरे पर बड़ा वार- हिम्मत है तो खुद के बाप के नाम पर वोट मांगे, बालासाहेब के नाम पर नहीं

‘इसमें विभ‍िन्न ग्रहों पर सभी जानकारी के साथ नक्षत्र‍िय नक्शा, उनका गुरुत्वाकर्षण, सूरज की आग को सामने से हटाना आद‍ि, सभी का कैलकुलेशन हजारों साल पहले किया गया था. और इसल‍िए मार्स मिशन में रॉकेट लॉन्च के माइक्रो सेकेंड का कैलकुलेशन पंचांग में दी गई जानकारी के जर‍िए किया गया. एक्टर का यह बयान लोगों ने सुना और सोशल मीड‍िया पर उन्हें ट्रोल करने लग गए. म्यूज‍िश‍ियन टीएम कृष्णा ने आर माधवन का यह वीड‍ियो शेयर कर तंज कसा. उन्होंने लिखा- ‘@isro ने इतनी महत्वपूर्ण जानकारी अपने वेबसाइट पर नहीं डाली इससे आहत हूं.

उन्होंने आगे इसरो की लिंक टैग कर लिखा- ‘मार्स पंचागम पर विचार करने का समय आ गया है.’ टीएम कृष्णा के इस ट्वीट पर कुछ लोगों ने आर माधवन की ख‍िल्ली उड़ाई तो कुछ ने उन्हें सपोर्ट किया है. एक यूजर ने लिखा- ‘आर माधवन अब आध‍िकार‍िक तौर पर चॉकलेट बॉय से व्हाट्सऐप अंकल बन गए हैं.’ एक ने लिखा- ‘व्हाट्सऐप यून‍िवर्स‍िटी अगले लेवल पर जा रही है.’ दूसरे ने लिखा- ‘याद है पिछले महीने इसे भारत के माइक्रो इकॉनमी और डिजिटल करेंसी पर बकवास किया था.

ये भी पढ़ें -: सत्ता के नशे में झूम शराबी झूम…- मीडिया के सामने जब लड़खड़ाए एकनाथ शिंदे, देखें Video

एक अन्य ने लिखा- ‘विज्ञान को दक‍ियानूसी प्रक्रियाओं से मत जोड़ो.’ वहीं आर माधवन के सपोर्टर ने कहा- ‘शायद आपको ही कुछ बेजतुका नजर आ रहा है. मैंने तो अब तक किसी ISRO साइंट‍िस्ट की तरफ से आर माधवन को का मजाक उड़ाते नहीं देखा. और हो सकता है कि उन्हें ये जानकारी नांबी नारायण सा मिस्टर अरुणन की तरफ से मिली हो. तुम पहले अपने सूत्र क्यों नहीं चेक कर लेते ट्वीट करने से पहले.

सोशल मीड‍िया पर इस हलचल के बाद खुद एक्टर ने ट्वीट कर इसपर सफाई दी है. उन्होंने ट्वीट किया- ‘मैं कैलेंडर को तमिल में पंचांग कहने के लिए इस उपहास के लायक हूं. बड़ी लापरवाही की मैंने. हालांक‍ि यह इस तथ्य को मिटा नहीं सकता क‍ि मंगल मिशन में हमारे द्वारा सिर्फ दो इंजनों की सहायता से कितनी बड़ी उपलब्ध‍ि मिली थी. अपने आप में एक रिकॉर्ड है @NambiNOfficial विकास इंजन रॉकस्टार है.

ये भी पढ़ें -: एकनाथ शिंदे और देवेंद्र फडणवीस की मुलाकात, क्या महाराष्ट्र में सरकार बनाने की तैयारी में BJP?

ये भी पढ़ें -: UP की दोनों सीटों पर सपा प्रत्याशी आगे, आजमगढ़ में निरहुआ से कड़ा मुकाबला


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-