Politics

समान नागरिक संहिता को लेकर उत्तराखंड की धामी सरकार ने लिया बड़ा फैसला

pushkar-singh-dhami-uttarakhand-govt-constitutes-committee-for-uniform-civil-code
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

समान नागरिक संहिता (uniform civil code) को लेकर उत्तराखंड की भाजपा सरकार ने एक बड़ा फैसला करते हुए इस संबंध में तमाम पहलुओं पर विचार कर सुझाव देने के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन कर दिया है। उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश रंजना प्रकाश देसाई की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय समिति (committee for uniform civil code ) का गठन किया गया है।

सेवानिवृत्त न्यायाधीश प्रमोद कोहली, सामाजिक कार्यकर्ता मनु गौर, सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी शत्रुघ्न सिंह और दून विश्विद्यालय की कुलपति सुरेखा डंगवाल को इस समिति में सदस्य के तौर पर शामिल किया गया है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सरकार के इस फैसले की जानकारी देते हुए ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्‍होंने लिखा- देवभूमि की संस्कृति को संरक्षित करते हुए सभी धार्मिक समुदायों को एकरूपता प्रदान करने के लिए न्यायाधीश उच्चतम न्यायालय (सेवानिवृत्त) रंजना प्रकाश देसाई की अध्यक्षता में समान नागरिक संहिता के क्रियान्वयन हेतु विशेषज्ञ समिति का गठन कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें -: मिड डे मिल का जायजा लेने पहुचे डीएम ने जमीन पर बैठकर छात्रों के साथ भोजन किया

समिति के गठन को लेकर राज्य सरकार की अधिसूचना में कहा गया है कि उत्तराखंड राज्य में रहने वाले सभी नागरिकों के व्यक्तिगत नागरिक मामलों को नियंत्रित करने वाले सभी प्रासंगिक कानूनों की जांच करने और मसौदा कानून या मौजूदा कानून में संशोधन के साथ उस पर रिपोर्ट करने के लिए इस समि‍ति का गठन किया जा रहा है।

इसके अलावा विवाह, तलाक, संपत्ति के अधिकार, उत्तराधिकार से संबंधित लागू कानून और विरासत, गोद लेने और रख-रखाव और सरंक्षता इत्यादि एवं समान नागरिक संहिता के परीक्षण एवं क्रियान्वयन हेतु राज्यपाल की स्वीकृति से विशेषज्ञ समिति का गठन किया जा रहा है। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव के दौरान पुष्कर सिंह धामी ने राज्य की जनता से यह वादा किया था कि दोबारा सत्ता में आने के बाद उनकी सरकार राज्य में समान नागरिक संहिता लागू करने के लिए समिति का गठन करेगी।

ये भी पढ़ें -: शहीद मुदस्सिर के पिता बोले- मेरा बेटा अब वापस नहीं आएगा, लेकिन हजारों जिंदगियां बचा गया

चुनावी वादे को पूरा करते हुए धामी सरकार ने विशेषज्ञ समिति का गठन कर दिया। दरअसल, समान नागरिक संहिता यानि यूनिफार्म सिविल कोड को देशभर में लागू करना भाजपा का एक बड़ा एजेंडा रहा है और राज्य स्तर पर उत्तराखंड ने इसे लागू करने की दिशा में एक कदम बढ़ा दिया है।

उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश की भाजपा सरकार भी अपने-अपने राज्यों में इसे लेकर आने वाले दिनों में कदम बढ़ा सकती है।

ये भी पढ़ें -: समीर वानखेड़े की मुश्किलें बढ़ी, गृह मंत्रालय ने कड़ी कार्रवाई का आदेश दिया

ये भी पढ़ें -: इस क्रिकेटर की पत्नी ने जोस बटलर को बताया अपना ‘दूसरा पति’, जानिए क्या है पूरा मामला

ये भी पढ़ें -: मंदिर में साईं की मूर्ति देख भड़के स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद, बोले-मंदिर में इनका क्या काम, दोबारा नहीं आऊंगा

सोर्स – navbharattimes.indiatimes.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-