India

जम्मू-कश्मीर HC ने कहा- राष्ट्रगान पर खड़े न होना अपराध नहीं, लेक्चरर के खिलाफ FIR को किया रद

not-standing-on-national-anthem-is-not-a-crime-jammu-kashmir-high-court
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट ने अपने एक फैसले में कहा है कि राष्ट्रगान के लिए खड़ा नहीं होना उसका ‘अनादर’ हो सकता है, लेकिन यह अपराध नहीं है। जस्टिस संजीव कुमार की बेंच ने एक कॉलेज लेक्चरर के खिलाफ दर्ज एफआईआर को रद करते हुए यह टिप्पणी की। राष्ट्रगान का अपमान करने के आरोप में गवर्नमेंट डिग्री कालेज बनी के कांट्रैक्चुअल लेक्चरर डा. तवसीफ अहमद भट्ट के खिलाफ FIR दर्ज की गई थी।

लेक्चरर पर आरोप था कि उन्होंने सेना की ओर से सर्जिकल स्ट्राइक का जश्न मनाने के लिए आयोजित समारोह में कथित तौर राष्ट्रगान के प्रति अनादर दिखाया। जस्टिस कुमार ने अपने फैसले में प्रिवेंशन ऑफ इंसल्ट्स टु नैशनल ऑनर ऐक्ट का हवाला दिया। उन्होंने कहा कि इसके सेक्शन-3 में राष्ट्रगान में बाधा पहुंचाने या किसी को गाने से रोकने के लिए सजा का प्रावधान है। राष्ट्रगान के लिए खड़ा नहीं होना अपराध नहीं है।

ये भी पढ़ें -: विदेश नीति पर स्वामी का तंज- विराट हिंदू नेता के नेतृत्व में तालिबान, पाक और चीन को पटक सकता है भारत

राष्ट्रगान का सम्मान भारत के संविधान के तहत मौलिक कर्तव्यों में से एक है, लेकिन यह कर्तव्य कानून द्वारा लागू करने योग्य नहीं है और न ही इस तरह के कर्तव्यों का उल्लंघन राज्य के किसी भी दंड कानून के तहत अपराध है। – हाई कोर्ट

not-standing-on-national-anthem-is-not-a-crime-jammu-kashmir-high-court

ये भी पढ़ें -: BJP सांसद बोले- जनसंख्या असंतुलित करने में आमिर खान जैसे लोगों का हाथ

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट के इस ऐतिहासिक फैसले से अलग-अलग राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में कई लोगों के खिलाफ राष्ट्रगान के ‘अनादर’ को लेकर दर्ज किए गए मामलों पर असर पड़ सकता है।

ये भी पढ़ें -: संबित पात्रा बोले- सेकुलरिज्म के ओवरडोज के कारण 70 सालों में भारत को हुई पीड़ा

ये भी पढ़ें -: भूपेश बघेल बोले- ढाई-ढाई साल CM का फॉर्मूला मंजूर नहीं, आलाकमान जिस दिन कहेगा, पद से हट जाऊंगा

सोर्स – navbharattimes.indiatimes.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-