Politics

आंदोलन में मरने वाले किसानों की मदद पर बोली सरकार- हमारे पास कोई रिकॉर्ड नहीं…

no-record-of-farmers-died-during-protest-government-says-in-parliament
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को संसद में बताया है कि सरकार के पास दिल्ली की सीमाओं पर कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान मरने वाले किसानों का कोई रिकॉर्ड नहीं है। विपक्ष की ओर से मृतक किसानों के परिवारों को आर्थिक मुआवजा दिए जाने के सवाल पर केंद्रीय मंत्री ने कहा कि चूंकि सरकार के पास किसानों की मौत का कोई रिकॉर्ड नहीं है, ऐसे में आर्थिक सहायता देने का सवाल ही नहीं उठता।

किसान नेताओं का लंबे समय से यह दावा है कि सिंघु, टिकरी और गाजीपुर सीमा पर लगातार कृषि कानूनों का विरोध करने वाले 700 से ज्यादा किसान अब तक जान गंवा चुके हैं।

यह भी पढ़ें -: रिपब्लिक रिपोर्टर पर भड़के राकेश टिकैत- आप लोगों को फिजिकल टच करती हो

यह मौतें मुख्य रूप से मौसम की मार, गंदगी के कारण होने वाली बीमारियों और आत्महत्या के कारण हुई हैं। इस बीच आंदोलनकारी किसान अपनी मांगों पर अड़े हैं। संयुक्त किसान मोर्चा ने मांग की है कि सरकार बाकी लंबित मुद्दों पर किसान नेताओं के साथ बातचीत करे।

तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करने वाले बिल के पास होने के बावजबद संयुक्त किसान मोर्चा ने कहा है कि उनका आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक सरकार एमएसपी पर कानूनी बनाने की उनकी मांग को स्वीकार नहीं करती है।

यह भी पढ़ें -: ममता से मुलाकात में बोली स्वरा भास्कर- देशद्रोह के आरोपों को तो ‘प्रसाद’ की तरह बांटा जा रहा है

किसानों ने यह भी मांग की है कि प्रदर्शन के दौरान दर्ज हुए पुलिस केस भी वापस लिए जाएं और इस दौरान मारे गए किसानों के परिवारों को मुआवजा मिले।

किसानों ने दावा किया है कि मंगलवार को केंद्र सरकार ने एमएसपी सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा के लिए उनसे पांच प्रतिनिधियों के नाम मांगे हैं।

यह भी पढ़ें -: गाड़ी रोकने पर भड़के बिहार के मंत्री- DM-SP को रास्ता देने के लिए मेरी गाड़ी रोकी… मैं सरकार हूं

यह भी पढ़ें -: त्रिपुरा के CM बिप्लब देब का आदेश- कॉलेजों में कराया जाए HIV टेस्ट

सोर्स – livehindustan.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-