Sports

मुथैया मुरलीधरन को सचिन-लारा से नहीं लगता था डर, बताया-किसने पैदा किया खौफ

muttiah-muralitharan-says-virender-sehwag-was-more-dangerous-than-sachin-tendulkar
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) -ब्रायन लारा (Brian Lara)…ये दो ऐसे बल्लेबाज थे जिनके क्रीज पर आते ही गेंदबाजों के हौसले पस्त हो जाते थे. सचिन और लारा ने अपने करियर में कई ऐतिहासिक पारियां खेली और टीम को मैच जिताए. हालांकि इनके दौर में एक ऐसा गेंदबाज भी हुआ जिन्हें इन दोनों बल्लेबाजों से कभी डर नहीं लगा. बात हो रही है मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) की जिन्होंने एक इंटरव्यू में खुद ये बात कही है.

आकाश चोपड़ा के साथ बातचीत में मुथैया मुरलीधरन ने बताया कि उन्हें कभी सचिन से डर नहीं लगा वो बस वीरेंद्र सहवाग (Virender Sehwag) से खौफ खाते थे. मुरलीधर ने इसकी वजह भी बताई. मुरलीधरन ने ESPN Cricinfo से बातचीत में कहा, ‘मुझे ब्रायन लारा और वीरेंद्र सहवाग ने ही सबसे बेहतर खेला, वो मेरी गेंदों को पढ़ लेते थे.’ मुरलीधरन ने लारा की तारीफ जरूर की लेकिन उन्होंने साफ कहा कि उन्हें हमेशा सहवाग से ही खौफ रहा.

ये भी पढ़ें -: एमएस धोनी का नया लुक देख फैंस रह गए दंग, बोले-प्लीज रणवीर सिंह से दूर रहो

सचिन तेंदुलकर के बारे में पूछने पर मुरली ने कहा कि उन्हें सचिन भी अच्छा खेलते थे लेकिन उन्होंने कभी उनकी गेंदों पर सहवाग जैसी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी नहीं की. सहवाग से था मुरलीधरन को खौफ! मुरलीधरन ने आकाश चोपड़ा को बताया, ‘सचिन को गेंदबाजी करने में कोई डर नहीं था क्योंकि वो मुझे सहवाग की तरह चोट नहीं पहुंचा सकते थे. मैं ये जानता था कि सहवाग मेरी गेंदों पर काफी ज्यादा रन बटोर सकते थे. सचिन इतने रन नहीं बनाते लेकिन उनका विकेट चटकाना मुश्किल था.

मुरलीधरन ने आगे कहा, ‘सहवाग टेस्ट मैच के शुरुआती 2 घंटों में ही 150 रन बनाना चाहते थे. इसीलिए उनके लिए मैंने हमेशा रक्षात्मक फील्डिंग रखी. मुझे पता था कि वो जरूर मुझपर बड़ा शॉट खेलेंगे और आउट होने का मौका बनेगा. मुरलीधरन का कहना कुछ गलत नहीं है. वीरेंद्र सहवाग टेस्ट में दो तिहरे शतक लगाने वाले इकलौते भारतीय क्रिकेटर हैं. तीसरा तिहरा शतक वो महज 7 रनों से चूके थे.

ये भी पढ़ें -: टीम इंडिया के फील्डिंग कोच आर श्रीधर ने बताया कि एंडरसन और बुमराह के बीच क्या बात हुई थी

वीरेंद्र सहवाग पहले सेशन से ही गेंदबाजों पर दबाव बनाकर रखते थे और स्पिनर्स के खिलाफ तो वो कमाल की बल्लेबाजी करते थे. सहवाग ने भारत के लिए 104 टेस्ट मैचों में 8586 रन बनाए और उनका औसत 49.3 रहा. सहवाग ने टेस्ट में 23 और वनडे में 15 शतक ठोके. श्रीलंका के खिलाफ सहवाग ने 11 टेस्ट में 72.88 की औसत से 1239 रन बनाए जिसमें 5 शतक और 3 अर्धशतक शामिल थे. इतने कमाल के रिकॉर्ड के बाद साफ है कि आखिर क्यों मुरलीधरन जैसा असाधारण गेंदबाज सहवाग से खौफ खाता था.

ये भी पढ़ें -: बड़े क्रिकेटर्स जिन पर आपराधिक मामले दर्ज हो चुके हैं, जानें विस्तार से…

ये भी पढ़ें -: 65 दिन बाद पत्नी को सामने देख ठुमके लगाने लगे सूर्यकुमार यादव, देखें VIDEO

सोर्स – hindi.news18.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-