India

हरिद्वार हेट स्पीच पर बोले मोहन भागवत- धर्म संसद में दिए गए बयान ‘हिंदुओं के शब्द’ नहीं

Mohan Bhagwat On Haridwar Hate Speech Case
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Mohan Bhagwat On Haridwar Hate Speech Case : राष्ट्रीय स्वयंसेवक प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने रविवार को कहा कि हाल में ‘धर्म संसद’ (Dharma Sansad) नामक कार्यक्रम में दिए गए कुछ बयान ‘‘हिंदुओं के शब्द” नहीं थे और हिंदुत्व (Hindutva) का पालन करने वाले लोग उनके साथ कभी सहमत नहीं होंगे.

वह लोकमत के नागपुर संस्करण की स्वर्ण जयंती के अवसर पर लोकमत मीडिया समूह द्वारा आयोजित एक व्याख्यान शृखला में ‘हिंदुत्व और राष्ट्रीय एकीकरण’ विषय पर बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि धर्म संसद में दिए गए बयान हिंदुओं के शब्द नहीं थे. भागवत ने कहा कि अगर मैं कभी कुछ गुस्से में कहता हूं, तो यह हिंदुत्व नहीं है.

यह भी पढ़ें -: जब राकेश टिकैत से पूछा गया- 2013 मुजफ्फरनगर दंगों में सरकारी गवाह क्‍यों नहीं बने?, दिया ये जवाब…

संघ प्रमुख ने कहा, ‘‘यहां तक कि वीर सावरकर ने कहा था कि अगर हिंदू समुदाय एकजुट और संगठित हो जाता है तो वह भगवद् गीता के बारे में बोलेगा न कि किसी को खत्म करने या उसे नुकसान पहुंचाने के बारे में बोलेगा.

Mohan Bhagwat On Haridwar Hate Speech Case

यह भी पढ़ें -: मूर्ति चोरी हुई शनिदेव की, मंदिर प्रशासन को MP पुलिस ने सौंप दी यमराज की मूर्ति, हुवी किरकिरी…

देश के ‘हिंदू राष्ट्र’ बनने के रास्ते पर चलने के बारे में भागवत ने कहा, ‘‘यह हिंदू राष्ट्र बनाने के बारे में नहीं है. आप इसे मानें या न मानें, यह हिंदू राष्ट्र है.” उन्होंने कहा कि संघ लोगों को विभाजित नहीं करता बल्कि मतभेदों को दूर करता है. उन्होंने कहा, ‘‘हम इस हिंदुत्व का पालन करते हैं.

यह भी पढ़ें -: सिंधिया का दावा- कोलकाता में दूसरा हवाई अड्डा बनाना चाहते हैं, बंगाल सरकार नहीं दे रही जमीन

यह भी पढ़ें -: U19 WC Final : दिनेश बाना ने सिक्स से दिलाया वर्ल्ड कप, यश धुल ने कोहली के रिकॉर्ड…

यह भी पढ़ें -: योगी आदित्यनाथ का ऐलान- अब फ्री राशन के साथ 500 रुपये भी मिलेंगे

सोर्स – ndtv.in. Mohan Bhagwat On Haridwar Hate Speech Case


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-