India

सेना के जवान से रिश्वतखोरी करने पर सस्पेंस हुवी मेरठ की महिला थानेदार और दारोगा, मुकदमा दर्ज

meeruts-woman-police-officer-and-her-fellow-inspector-caught-in-bribery-with-army-jawan-case-registered
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

महिला थाना मेरठ की थानेदार मोनिका जिंदल और उनकी साथी सब-इंस्पैक्टर रितु काजला को एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने सस्पैंड कर दिया है. एसएसपी के आदेश से दोनो के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में विभागीय कार्रवाई शुरू की गयी है और सिविल लाइन थाने में केस दर्ज किया गया है. दोनो पुलिस अफसरों पर सेना के एक जवान से केस की धारा कम करने के बदले एक लाख रूपये की डील किये जाने के आरोप लगे थे. एसएसपी ने जांच के बाद यह कार्रवाई की है.

मेरठ कोतवाली में तैनात एक होमगार्ड चंद रोज पहले एक लिखित शिकायत और एक वीडियो लेकर एसएसपी प्रभाकर चौधरी के पास पहुंचा था. होमगार्ड ने आरोप लगाया कि उसके एक रिश्तेदार से महिला थाना प्रभारी मोनिका जिंदल ने दहेज और बलात्कार के मामले में धारा 376 हटाने के बदले एक लाख रूपये की मांग की है. जब महिला थाने में यह डील चल रही थी तो यह होमगार्ड भी अपने रिश्तेदार के साथ वहां मौजूद था. होमगार्ड का रिश्तेदार सेना में जवान है. डील के दौरान होमगार्ड ने पूरी बातचीत की वीडियो बना ली थी. सरधना के एक गांव का निवासी एक सैनिक नागालैंड में तैनात है. उसकी भाभी का मायका कंकरखेड़ा में है. सैनिक की भाभी ने अपने ससुरालवालों के खिलाफ दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया था.

ये भी पढ़ें -: लाउडस्पीकर और हनुमान चालीसा विवाद में बड़ी बात कह गए सोनू सूद, पढ़ें विस्तार से…

इस मुकदमें में भाभी ने कथित बलात्कार के आरोप अपने सैनिक देवर पर लगाये थे. घटना के वक्त सैनिक नागालैंड में तैनात था. जब उसे केस के बारे में जानकारी हुई तो वह मेरठ आया और महिला थाना प्रभारी मोनिका जिंदल और केस की विवेचक दारोगा रितु काजला से मिला. उसने अपनी बेगुनाही के प्रमाण भी पुलिस अफसरों से सामने पेश किये लेकिन महिला थाना प्रभारी और विवेचक ने केस में से दुष्कर्म की धारा 376 हटाये जाने के बदले एक लाख रूपये मांगे. दोनो महिला अफसर इस मामले में बार-बार सैनिक के परिवार को थाने में तलब करके उनका उत्पीड़न भी कर रही थी. वीडियो बनाते समय महिला थानेदार को होमगार्ड पर शक भी हुआ लेकिन होमगार्ड ने यह कहकर बात टाल दी कि मोबाइल फोन अपडेट हो रहा है.

एसपी देहात केशव कुमार को इस मामले की जांच सौंपी गयी थी. एसपी देहात ने वीडियो के परीक्षण और मामले की तह तक जांच करने के बाद दोनो महिला अफसरों को भ्रष्टाचार का दोषी पाया और अपनी रिपोर्ट एसएसपी प्रभाकर चौधरी को सौंप दी. सूत्रों के मुताबिक वीडियो में महिला थानेदार को सैनिक से यह कहते हुए भी सुना जा सकता है कि जो पैसा धारा हटाने के लिए मांगा जा रहा है वह सैनिक की महज एक महीने की तनख्वाह है.

ये भी पढ़ें -: पत्रकार अमन चोपड़ा को गिरफ़्तार करने नोएडा पहुंची राजस्थान पुलिस

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मामले में डील के बाद महिला थाना प्रभारी और विवेचक को 34 हजार रूपये सैनिक ने दिये. इस रकम में 15 हजार रूपये महिला थाना प्रभारी मोनिका जिंदल, 9 हजार रूपये केस की विवेचक दारोगा रितु काजला और 10 हजार रूपये एक उच्च अधिकारी को दिये गये. पुख्ता साक्ष्य मिलने के बाद एसपी देहात ने एसएसपी से दोनो महिला अफसरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई और केस दर्ज किये जाने की संस्तुति की है.

एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने उ0प्र0 अधीनस्थ श्रेणी के पुलिस अधिकारियों की (दण्ड़ एवं अपील) नियमावली-1991 के नियम 17(1)(क) के प्राविधानों के अन्तर्गत आरोपी महिला अफसरों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की है. दोनो के खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी गयी और नियमानुसार केस दर्ज किये जाने के बाद कार्रवाई के आदेश जारी किये है.

ये भी पढ़ें -: धर्म संसद मामले में SC की फटकार के बाद दिल्ली पुलिस ने दर्ज की FIR

ये भी पढ़ें -: कॉलेज के बाहर लड़कियों के सामने कर रहा था ऐसी हरकतें… पुलिस ने किया गिरफ्तार

सोर्स – bharatsamachartv.in


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-