India

मुस्लिमों पर हमला करने आई भीड़ के सामने अकेली खड़ी हो गईं मधुलिका, बचाई 15 लोगों की जान

madhulika-singh-saved-lives-of-15-people-during-karuali-violence-in-rajasthan
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

देश में पिछले दिनों सांप्रदायिक हिंसा के कई मामले सामने आए हैं, जिन्हें लेकर सियासी माहौल काफी गरम है। टीवी चैनलों पर भी इन मुद्दों को लेकर हर रोज जोरदार डिबेट हो रही हैं। राजनीतिक दल एक-दूसरे पर आरोप लगाकार इस मुद्दे को भुनाने की कोशिश कर रहे हैं। पूरे प्रकरण में सिर्फ सियासी माहौल को लेकर चर्चाएं हो रही हैं।

अक्सर देखा गया है कि इस तरह की घटनाओं में आम लोग धर्म और जाति को भूलकर एक-दूसरे की मदद के लिए आगे आते हैं। ऐसी ही इंसानियत की मिसाल करौली दंगों के दौरान मधुलिका सिंह ने पेश की है। उन्होंने अपने भाई के साथ 15 लोगों को अपने घर में पनाह देकर ना सिर्फ उनकी जान बचाई बल्कि आग में झुलस रही दुकानों को भी बचाने का प्रयास किया।

ये भी पढ़ें -: मोहन भागवत बोले 15 साल में देश बनेगा अखंड भारत तो लोग बोले- कभी महंगाई और बेरोजगारी की भी बात कर लिया करिए

मधुलिका 48 वर्षीय विधवा हैं, जिनके दो बच्चे हैं। वे पति की मृत्यु के बाद से पिछले पांच वर्षों से कपड़ों का व्यवसाय चला रही हैं। उनकी दुकान उसी बाजार में है जहां हिंसा हुई थी। दो अप्रैल को जब जुलूस इस बाजार से गुजर रहा था तो यहां दंगा भड़क गया। मधुलिका ने बताया कि तोड़फोड़ और शोर की आवाज सुनकर वे बाहर गई तो देखा लोग हड़बड़ी में दुकानें बंद करके भाग रहे हैं। वहीं, सामने से एक भीड़ आ रही थी, जिसका उन्होंने बहादुरी से सामना किया।

पुलिस के मुताबिक, यहां जुलूस ने लाउडस्पीकर पर संवेदनशील नारे लगाए और उसके बाद हिंसा और पथराव शुरू हो गया। मधुलिका ने बताया कि जिस वक्त यह घटना हुई तो कुछ लोगों ने उनसे शटर बंद करने को कहा। शोर की आवाज सुनकर वे बाहर निकलीं तो उन्होंने देखा कि लोग सड़कों पर भाग रहे हैं और कुछ लोग दुकानों में आग लगा रहे थे। मधुलिका और उनके भाई संजय ने अपने परिवार की परवाह किए बिना करीब 15 लोगों को घर में शरण दी और इनकी जान बचाने लिए निडरता से दंगा कर रहे लोगों का सामना किया।

ये भी पढ़ें -: BJP सांसद का दावा- स्थानीय प्रशासन मुझे सरकारी कार्यक्रमों में आमंत्रित नहीं करता, क्योंकि मैं दलित हूं

इसी शॉपिंग कॉम्पलैक्स में ब्यूटी पार्लट चलाने वाली मिथिलेश सोनी ने तीन महिलाओं के साथ मिलकर दुकानों पर लगी आग बुझाने के लिए बाल्टी भर भरकर पानी डाला। मिथिलेश ने बताया कि हमने हिंसा को देखते हुए मुस्लिम बच्चों को बाहर नहीं निकलने दिया।

करौली सदर बाजार मार्केट एसोसिएशन के प्रमुख राजेंद्र शर्मा ने कहा, “इस बाजार में हिंदू और मुसलमान वर्षों से एक साथ व्यापार कर रहे हैं। हम ऐसी स्थिति नहीं चाहते हैं जहां लोगों के बीच अविश्वास और फूट हो। हम शांति और भाईचारे की वापसी चाहते हैं।

ये भी पढ़ें -: जीतन राम मांझी का विवादित बयान- मैं राम को नहीं मानता, राम कोई भगवान नहीं

ये भी पढ़ें -: KRK बोले मुकेश अंबानी को पता है कि उन्हें भारत छोड़ना पड़ सकता है, लोगों से मिले ऐसे जवाब…

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-