LIC ने अडानी की कंपनियों के ₹73467 करोड़ के शेयर खरीद डाले

LIC ने अडानी की कंपनियों के ₹73467 करोड़ के शेयर खरीद डाले
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

भारतीय जीवन बीमा निगम यानी (LIC) ने गौतम अडानी समूह की कंपनियों पर बड़ा दांव लगाया है। हाल की तिमाहियों में LIC ने समूह की जिन तीन कंपनियों में हिस्सेदारी बढ़ाई है, वे अडानी एंटरप्राइजेज, अडानी टोटल गैस और अडानी ट्रांसमिशन हैं। इसी के साथ बीते हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन तक एलआईसी का निवेश अडानी समूह की कुल 5 कंपनियों में 73,467 करोड़ रुपये था। हालांकि, इसी दौरान विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने अडानी समूह की कंपनियों में हिस्सेदारी कम की है।

अडानी समूह की जिन 5 कंपनियों में LIC की हिस्सेदारी है, वो अडानी एंटरप्राइजेज, अडानी ग्रीन एनर्जी, अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन (एसईजेड), अडानी टोटल गैस और अडानी ट्रांसमिशन हैं। PRIME डेटाबेस के मुताबिक 30 सितंबर तक LIC का कुल इक्विटी पोर्टफोलियो 10.27 लाख करोड़ रुपये का था। अडानी समूह में LIC की हिस्सेदारी का मूल्य इसके कुल इक्विटी पोर्टफोलियो का लगभग 7 प्रतिशत था।

30 जून, 2021 तक अडानी एंटरप्राइजेज में एलआईसी की हिस्सेदारी 1.32 प्रतिशत थी, जो पांच तिमाहियों से लगातार बढ़ रही है। 30 सितंबर तक हिस्सेदारी 4.02 प्रतिशत हो गई। एलआईसी के पास सितंबर तक 4,58,14,954 अडानी एंटरप्राइजेज के शेयर थे। इसकी कीमत 17,966 करोड़ रुपये थी।

ये भी पढ़ें -: रामपुर बूथ पर तोड़फोड़, BJP पर बूथ कैप्चरिंग का आरोप, सपा बोली-पूर्व चेयरमैन को जबरन थाने में बैठाया

30 सितंबर तक अडानी टोटा में एलआईसी की हिस्सेदारी 5.77 फीसदी थी। यह 2021 की मार्च तिमाही से हर तिमाही में बढ़ रही है। मार्च तिमाही तक यह बढ़कर 5.11 फीसदी हो गई। इस कंपनी में एलआईसी का कुल निवेश 22,706 करोड़ रुपये है। अडानी ट्रांसमिशन के मामले में एलआईसी की हिस्सेदारी 2021 की जून तिमाही के 2.42 फीसदी से बढ़कर 30 सितंबर को 3.46 फीसदी हो गई है। हिस्सेदारी की कीमत 10,600 करोड़ रुपये है।

अडानी ग्रीन की बात करें तो एलआईसी की सितंबर तिमाही में 1.15 फीसदी हिस्सेदारी थी। इससे पहले का पता लगाना मुश्किल है क्योंकि बाजार को इसकी जानकारी नहीं दी गई है। अडानी ग्रीन एनर्जी में एलआईसी की हिस्सेदारी 3,760 करोड़ रुपये की है।

अडानी पोर्ट्स के मामले में एलआईसी की हिस्सेदारी 2020 की सितंबर तिमाही के 11.9 फीसदी से गिरकर 2022 की सितंबर तिमाही में 9.82 फीसदी रह गई है। अडानी पावर में अब एलआईसी की 1 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी नहीं है। मार्च तिमाही तक कंपनी में 1.56 फीसदी हिस्सेदारी थी।

ये भी पढ़ें -: ऑफिस में मूवी देखते पकड़ा गया बाबू, DM से बोला- नेट ऑन था तो प्रोग्राम चालू हो गया

ये भी पढ़ें -: महेंद्र सिंह धोनी को लेकर पाकिस्तानी फैन से भिड़ गए अमित मिश्रा, दिया करारा जवाब


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-