Politics

PM मोदी पर राकेश टिकैत का तंज- इतने मीठे… शहद भी फेल कर दिया… हलवाई को ततैया भी नहीं काटता…

rakesh-tikait-targeted-centre-government-narendra-modi
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Rakesh Tikait On PM Modi : पीएम नरेंद्र मोदी की तरफ से तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त किए जाने की घोषणा के बाद भी किसानों का आंदोलन जारी है। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने शनिवार को कहा कि कानूनों की वापसी की घोषणा के बावजूद वह सरकार से बिना बात किए घर नहीं जाएंगे। टिकैत ने अपने ही अंदाज में पीएम मोदी पर तंज कसा।

राकेश टिकैत ने कहा कि प्रधानमंत्री को इतना मीठा भी नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि 750 किसान शहीद हुए, 10 हजार मुकदमे हैं। बगैर बातचीत के कैसे चले जाएं। प्रधानमंत्री ने इतनी मीठी भाषा का उपयोग किया कि शहद को भी फेल कर दिया। टिकैत ने कहा कि हलवाई को तो ततैया भी नहीं काटता। वह ऐसे ही मक्खियों को उड़ाता रहता है। पीएम नरेंद्र मोदी के तीनों कृषि कानून वापस लिए जाने की घोषणा के बाद भी राकेश टिकैत पीएम पर लगातार हमलावर हैं।

यह भी पढ़ें -: राहुल गांधी बोले- अन्नदाता ने सत्याग्रह से अहंकार का सर झुका दिया…जय हिंद का किसान

कृषि कानून वापसी के ऐलान के बाद माना जा रहा है कि अब इसकी क्रेडिट लेने की होड़ शुरू हो सकती है। टिकैत के पीएम मोदी पर दिए जा रहे बयानों को भी इससे जोड़कर देखा जा रहा है। दरअसल, पीएम के ऐलान के साथ ही किसान नेताओं ने कहा था कि MSP पर एक्ट बनने तक यह आंदोलन जारी रहेगा। यानी, किसान नेता जल्दी इस बड़े मौके को हाथ से गंवाना नहीं चाहते हैं। टिकैत ने शुक्रवार को कहा था कि संसद में कृषि कानून की वापसी तक वह आंदोलन खत्म नहीं करने वाले हैं।

राकेश टिकैत का कहना है कि संसद से कानून के रद्द होने तक आंदोलन जारी रहेगा। टिकैत ने कहा कि हम लड़ेंगे और जीतेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार अब न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानून बनाए। किसान नेता ने कहा कि सरकार को किसानों के दूसरे मुद्दों पर भी बात करनी चाहिए। राकेश टिकैत ने कहा कि कृषि कानूनों की वापसी पर सिंघू बॉर्डर पर आज संयुक्त किसान मोर्चा की आज बैठक होने वाली है। उन्होंने कहा कि दोपहर 12 बजे होने वाली बैठक में नौ सदस्यों की कमेटी आगे की रणनीति तय करेगी।

यह भी पढ़ें -: चुनाव देखकर मजबूर हुई सरकार, कृषि कानून की वापसी के बाद CAA पर ये बोले ओवैसी

गुरु नानक जयंती के अवसर पर राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि तीन कृषि कानून किसानों के फायदे के लिए थे लेकिन हमारे सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के बावजूद हम किसानों के एक वर्ग को मना नहीं पाए। उन्होंने कहा कि तीन कृषि कानूनों का लक्ष्य किसानों, खासकर छोटे किसानों को सशक्त बनाना था। बीकेयू के मीडिया प्रभारी धमेंद्र मलिक ने कहा कि यह बस पहली जीत है जो किसानों की एकता, उनके बलिदान एवं संघर्ष के कारण आयी है।

यह भी पढ़ें -: कृषि कानूनों की वापसी पर महुआ मोइत्रा का BJP पर तंज- क्या यूपी हारने का डर है?…

यह भी पढ़ें -: गोदी पत्रकार बोला- देश ने 56 इंची सीने वाला PM चुना था, सियासी नफा-नुक़सान देखकर झुक जाने वाला नहीं

सोर्स – navbharattimes.indiatimes.com. Rakesh Tikait On PM Modi


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-