Sports

आवेश खान की दिलचस्प कहानी- पान की दुकान से ‘इंडिया टीम’ तक का सफ़र

know-who-is-avesh-khan-team-india
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Avesh Khan : भारतीय टीम का सफर टी-20 विश्व कप में समाप्त हो चूका है. भारत ग्रुप मैचों में अपने फीके प्रदर्शन के चलते सेमीफाइनल में जगह बनाने में नाकाम रही. इसी के साथ अब भारतीय टीम वापस वतन लौट कर आ रही है. अब टीम इंडिया अपना फोकस किवी टीम के खिलाफ होने वाली सीरिज पर लगाने की तैयारी कर रही है. इसके लिए BCCI ने 16 सदस्सीय भारतीय दल की घोषणा की है. इस दल में कई नए चेहरों को शामिल किया गया है.

आईपीएल में शानदार प्रदर्शन करने वाले युवा प्लेयर्स को भी टीम में पहली बार मौका मिला है. बता दें कि भारत और न्यूजीलैंड के बीच यह द्विपक्षीय सीरीज 17 नवंबर से खेली जाएगी, जिसमें 3 टी20 मैच होने है. BCCI ने इस सीरीज के लिए जिस 16 सदस्यीय टीम का ऐलान किया है, उसका नेतृत्व रोहित शर्मा द्वारा किया जाएगा. वहीं इस टीम में दो युवा खिलाड़ी वेंकटेश अय्यर और आवेश खान (Avesh Khan) शामिल किये गए है.

यह भी पढ़ें -: राफेल डील : संबित पात्रा पर बरसे पूर्व IAS, बोले- आरोप विपक्ष पर, लेकिन जांच से खुद भाग रहे हैं

वेंकटेश अय्यर और आवेश खान (Avesh Khan) दोनों ही मध्यप्रदेश के इंदौर के रहने वाली है. वहीं बात आवेश खान की करें तो वह एक तेज गेंदबाज है. आवेश का जन्म 13 दिसंबर 1996 को इंदौर मध्य प्रदेश में हुआ था. आवेश खान ने 14 अप्रैल 2017 को इंडियन प्रीमियर लीग 2017 में विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए अपना आईपीएल डेब्यू किया था.

इसके आलावा उन्होंने 5 फरवरी 2018 को 2017-18 विजय हजारे ट्रॉफी के लिए मध्य प्रदेश की तरफ से लिस्ट-ए क्रिकेट में डेब्यू किया. इंदौर के रहने वाले आवेश खान (Avesh Khan) के पिता का आशिक खान हैं. आवेश ने अपनी शुरूआती शिक्षा इंदौर की एडवांस एकेडमी से हासिल की है. इसके बाद उन्होंने बैचलर ऑफ कॉमर्स (बीकॉम) की डिग्री रेनेसां कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड मैनेजमेंट से हासिल की.

यह भी पढ़ें -: नवाब मलिक पर उद्धव ठाकरे ने दिया बड़ा बयान, कही ये बात, पढ़ें विस्तार से…

इस्लाम धर्म का पालन करने वाले आवेश के पिता आशिक खान अपने शुरूआती दिनों में अपना परिवार चलाने के लिए एक पान का खोखा चलाते थे.

मीडिया से बातचीत के दौरान के दौरान बताया था कि वो बोतल या जुते रखकर गेंदबाजी का अभ्यास करते थे और जब गेंद उन पर जा लगती थी तो मेरा आत्मविश्वास बढ़ जाता है और इससे परफेक्शन अच्छी आती.

यह भी पढ़ें -: बर्खास्‍तगी के UP सरकार के आदेश पर डॉ. कफील बोले- इंसाफ के लिए लड़ाई जारी रहनी चाहिए

यह भी पढ़ें -: नवाब मलिक की बेटी ने देवेंद्र फडणवीस को भेजा नोटिस- बोलने का अधिकार है, गाली देने का नहीं

यह भी पढ़ें -: त्रिपुरा में वकीलों, पत्रकारों और एक्टिविस्टों के खिलाफ UAPA की FIR को सुप्रीम कोर्ट मैं चुनौती

सोर्स – ucnewshindi.com. Avesh Khan


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-