India

सरकारी नौकरी करने वाले कश्मीरी पंडितों ने LG को पत्र, बोले- कश्मीर में हम सुरक्षित नहीं, हमें निकालो

kashmiri-pandit-govt-employee-write-letter-to-lg-manoj-sinha-appeal-to-save-their-life
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

जम्मू-कश्मीर में हाल के दिनों में जिस तरह से आतंकवादी टारगेट किलिंग के तहत कश्मीरी पंडितों को निशाना बना रहे हैं, उससे यह समुदाय सहमा दिख रहा है। अब सरकारी सेवा में कार्यरत कश्मीरी पंडितों ने राज्य के एलजी को पत्र लिखकर अपील की है कि उन्हें घाटी से सुरक्षित वापस निकाला जाए। वहीं दूसरी ओर एक केमिस्ट्री के प्रोफेसर की बर्खास्तगी को लेकर छात्र भड़क गए हैं।

सुरक्षित निकालो- ऑल पीएम पैकेज एम्प्लॉइज फोरम ने 14 मई को जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा को लिखे एक पत्र में लिखा- “हम पीएम पैकेज कर्मचारी और गैर-पीएम पैकेज कर्मचारी आपसे अनुरोध करते हैं कि कृपया हमें कश्मीर से सुरक्षित निकाल लें और बचा लें। महोदय, यदि आपका आप ऐसा करने में सक्षम नहीं है, तो हम सामूहिक इस्तीफा देने के लिए तैयार हैं … कश्मीर हमारे लिए सुरक्षित नहीं है।

ये भी पढ़ें -: ज़मीन के नीचे कुछ है, इसका मतलब ही है कि दिमाग़ के भीतर कुछ नहीं है : रवीश कुमार

इसके अलावा, पत्र में उन्होंने लिखा है कि वे दुनिया में कहीं भी सेवा करने को तैयार हैं लेकिन कश्मीर में नहीं। पत्र में कहा गया है- “हम यहां नहीं रह पा रहे हैं… हमें यहां रोजाना मारा जा रहा है। बता दें कि जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले में गुरुवार दोपहर आतंकियों ने राजस्व विभाग के कर्मचारी राहुल भट की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जिसके बाद पहले से ही डरे हुए कश्मीरी पंडित अब घाटी से निकालने की मांग कर रहे हैं।

kashmiri-pandit-govt-employee-write-letter-to-lg-manoj-sinha-appeal-to-save-their-life

ये भी पढ़ें -: त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देव ने गवर्नर को सौंपा इस्तीफ़ा

प्रोफेसर के पक्ष में लामबंद छात्र- उपराज्यपाल मनोज सिन्हा द्वारा कश्मीर विश्वविद्यालय के रसायन विज्ञान के प्रोफेसर डॉ अल्ताफ हुसैन पंडित को बर्खास्त करने के एक दिन बाद, छात्रों ने विश्वविद्यालय परिसर में धरना दिया और उनकी बहाली की मांग की। ऐसा पहली बार देखा जा रहा है जब किसी सरकारी कर्मचारी की बर्खास्तगी का विरोध किया जा रहा है।

प्रोफेसर को कथित तौर पर “राज्य की सुरक्षा के लिए खतरा” होने के लिए बर्खास्त किया गया है। छात्रों का कहना है कि सरकार को अपने फैसले पर पुनर्विचार करना चाहिए और प्रोफेसर को फिर बहाल किया जाना चाहिए।

ये भी पढ़ें -: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने जेलों में VIP कल्चर को लेकर लिया बड़ा फैसला

ये भी पढ़ें -: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने जेलों में VIP कल्चर को लेकर लिया बड़ा फैसला

ये भी पढ़ें -: रजत पाटिदार के 102 मीटर लंबे छक्के से बुजुर्ग चोटिल, सिर पर लगी बॉल, देखें VIDEO

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-