Entertainment

कंगना रनौत के खिलाफ पटना के पुलिस थाने में केस दर्ज, जानें पूरा मामला…

kangana-ranaut-statement-bihar-congress-leaders-complain-against-her-in-patna-sk-puri-police-station
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

FIR On Kangana Ranaut : बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) के देश की आजादी को लेकर दिये बयान को लेकर उनकी कड़ी आलोचना हो रही है. इससे बिहार की भी सियासत (Bihar Politics) गरमा गई है. बिहार कांग्रेस के नेताओं ने कंगना रनौत के खिलाफ पटना (Patna) के श्रीकृष्ण पुरी थाना (SK Puri Police Station) में आवेदन देकर उन पर सख्त कार्रवाई की मांग कर डाली है. कांग्रेस के नेता ऋषि मिश्रा ने शनिवार को बयान जारी करते हुए कहा कि आज तक हमने यही पढ़ा था कि देश को आजादी वर्ष 1947 में मिली है, पर कंगना रनौत ने बयान जारी कर बताया कि 2014 में देश को आजादी मिली.

उन्होंने महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, चंद्रशेखर आजाद द्वारा आजादी के लिए की गई लड़ाई को शर्मिंदा किया है इसलिए कंगना पर मामला दर्ज कर कठोर कार्रवाई होनी चाहिए और उनसे पद्ममश्री अवार्ड (Padma Shri Award) को भी वापस ले लेना चाहिए.

यह भी पढ़ें -: BJP नेता ने की कंगना रनौत के खिलाफ कार्रवाई की मांग, बोले- यह स्वतंत्रता सेनानियों की…

कांग्रेस ने बिहार भर में आंदोलन करने की दी चेतावनी कांग्रेस नेताओं ने कंगना रनौत पर करवाई नहीं होने और पद्मश्री सम्मान नहीं लौटाने पर प्रदेश भर में आंदोलन करने की चेतावनी दी है. पार्टी के नेता शंकर स्वरूप पासवान ने कहा कि कंगना के बयान से सभी देशभक्तों की भावनाएं आहत हुई हैं. अगर कार्रवाई नही हुई तो बिहार भर में आंदोलन किया जाएगा.

वहीं, कंगना रनौत के बयान मामले पर बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष मदन मोहन झा द्वारा कोई प्रतिक्रिया नहीं देने पर भी पार्टी के भीतर विरोध शुरू हो गया है. कांग्रेस के नेता ऋषि मिश्रा ने सवाल खड़े करते हुए कहा कि ऐसे गंभीर मुद्दों पर प्रदेश अध्यक्ष सो रहे हैं. ऐसे बयानों पर भी अगर वो कुछ नहीं बोलते तो प्रदेश अध्यक्ष के पद पर बने रहने का कोई मतलब नहीं. कांग्रेस के एक और नेता शंकर स्वरूप ने कहा कि कांग्रेस में नीचे से ऊपर तक सफाई की जरूरत है. पार्टी को प्रदेश अध्यक्ष को तत्काल हटा देना चाहिए.

यह भी पढ़ें -: सुष्मिता देव का त्रिपुरा पुलिस पर तंज- अगली बार हमला करने वालों का नाम-पता पूछूंगी…

बता दें कि कंगना रनौत ने हाल ही में एक निजी टीवी चैनल के कार्यक्रम में कहा था, ‘सावरकर, रानी लक्ष्मीबाई और नेताजी सुभाषचंद्र बोस इन लोगों की बात करूं तो ये लोग जानते थे कि खून बहेगा, लेकिन ये भी याद रहे कि हिंदुस्तानी-हिंदुस्तानी का खून नहीं बहाए. उन्होंने आजादी की कीमत चुकाई, पर 1947 में जो मिली वो आजादी नहीं थी, वो भीख थी और जो आजादी मिली है वो 2014 में मिली जब नरेंद्र मोदी की अगुआई में बीजेपी की सरकार सत्ता में आई.’ कंगना के दिए इस बयान को लेकर तब से देश भर में खूब हंगाना मचा हुआ है.

यह भी पढ़ें -: कंगना रनौत पर कुमार विश्वास का तंज- जिनकी खुद की प्रासंगिकता सत्ता की गुलामी से बरकरार है…

यह भी पढ़ें -: फ़िर बोली कंगना- कोई बता दे 1947 में कौन सा स्वतंत्रता संग्राम हुआ तो वापस कर दूंगी पद्मश्री

सोर्स – hindi.news18.com.  FIR On Kangana Ranaut


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-