Politics

जितेंद्र त्यागी उर्फ वसीम रिजवी अब लेने वाले है संन्यास ?, कही ये बात…

jitendra-tyagi-alias-waseem-rizvi-will-take-sanyas-akhara-parishad-chairman-shrimahant-ravindra-puri
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

इस्लाम धर्म छोड़कर हिन्दू धर्म अपनाने वाले जितेंद्र त्यागी उर्फ वसीम रिजवी संन्यास लेने की इच्छा को लेकर सोमवार को निरंजनी अखाड़े पहुंचे। यहां उन्होंने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी के सचिव श्रीमहंत रविंद्र पुरी से मुलाकात की। श्रीमहंत रविंद्र पुरी ने उन्हें बताया है कि विद्वान संतों के बीच संन्यास को लेकर फैसला होगा।

शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के पूर्व चेयरमैन जितेंद्र त्यागी उर्फ वसीम रिजवी ने शांभवी पीठाधीश्वर आनंद स्वरूप के समक्ष संन्यास लेने की इच्छा जाहिर की थी। मंगलवार को आनंद स्वरूप के साथ रिजवी निरंजनी अखाड़े पहुंचे। जहां श्रीमहंत रविंद्र पुरी से उन्होंने आशीर्वाद लिया।

ये भी पढ़ें -: भगवंत मान ने अपनी ही सरकार में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री विजय सिंगला को किया बर्खास्‍त, जानें पूरा मामला

बंद कमरे में घंटों संतों और रिजवी की बातचीत भी हुई। रिजवी ने श्रीमहंत रविंद्र पुरी को बताया कि परिवार के साथ रहकर धर्म का प्रचार-प्रसार नहीं किया जा सकता है। इस कारण उन्होंने संन्यास लेने का मन बनाया है। श्रीमहंत रविंद्र पुरी ने एक बार उन्हें अपने परिजनों से मुलाकात करने की बात कही थी, लेकिन रिजवी ने साफ इनकार कर दिया कि अब उनको लखनऊ जाने का कोई मन नहीं है।

निरंजनी अखाड़े से जुड़ने के दिए संकेत
रिजवी ने श्रीमहंत रविंद्र पुरी को कहा कि जहां उनकी आस्था और प्यार है, वह सबसे पहले उसी अखाड़े में पहुंचे हैं। इसके बाद अंदेशा जताया जा रहा है कि रिजवी निरंजनी अखाड़े से जुड़ सकते हैं।

ये भी पढ़ें -: मुग़लों से मुसलमान का रिश्ता नहीं, लेकिन मुग़लों की बीवियां कौन थीं? : असदुद्दीन ओवैसी

जेल में ठान लिया था संत बनना है
रिजवी ने संतों को कहा कि जब वह दिसंबर में जेल में गए थे तब उन्होंने अपने मन में ठान लिया था कि उनको संत बनना है। इसलिए उन्होंने शांभवी आश्रम के पीठाधीश्वर आनंद स्वरूप से अपनी इच्छा जाहिर की थी।

शंकराचार्य से लिया आशीर्वाद
रिजवी ने कनखल स्थित आश्रम में पहुचंकर जगद्गुरु शंकराचार्य राज राजेश्वराश्रम से मुलाकात की और उनसे आशीर्वाद लिया। दोनों के कई मुद्दों को लेकर बातचीत भी हुई।

ये भी पढ़ें -: हिंदू पक्ष से कोर्ट का सवाल- किस कानून के तहत चाहिए कुतुब मीनार में पूजा का हक?

ये भी पढ़ें -: अपनी ही पार्टी के नेताओं पर फिर बरसे कांग्रेस के आचार्य प्रमोद कृष्णन, कह दी ये बात…

सोर्स – livehindustan.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-