Politics

कंगना रनौत के बयान पर भड़के जीतनराम मांझी, बोले- वापस हो पद्म श्री, मीडिया भी करे बैन

jitanram-manjhi-reaction-bollywood-actress-kangana-ranaut-statement-indias-freedom-mahatma-gandhi-jawaharlal-nehru
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Jitanram Manjhi on Kangana Ranaut : बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) भारत की आजादी पर दिए बयान के बाद विवादों में हैं. कंगना ने एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में कहा कि आजादी अगर भीख में मिले, तो क्या वो आजादी हो सकती है? कंगना ने कहा कि असली आजादी तो 2014 में मिली है. इस बयान के बाद कंगना निशाने पर हैं.

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने मांग की है कि कंगना से पद्म श्री सम्मान वापस लेना चाहिए. जीतनराम मांझी ने राष्ट्रपति भवन को टैग करते हुए ट्वीट किया कि बिना देरी किए कंगना रनौत से पद्म श्री सम्मान वापस लेना चाहिए. उन्होंने लिखा कि नहीं तो दुनिया ये समझेगी कि गांधी, नेहरू, भगत सिंह, सरदार पटेल, कलाम, मुखर्जी, वीर सावरकर ने भीख मांगी तो आजादी मिली.

यह भी पढ़ें -: बर्खास्‍तगी के UP सरकार के आदेश पर डॉ. कफील बोले- इंसाफ के लिए लड़ाई जारी रहनी चाहिए

उन्होंने ये भी मांग की है कि कंगना इस बयान के लिए माफी मांगे. जीतनराम मांझी ने चैनलों से भी कंगना को बैन करने की अपील की है. बता दें कि कंगना को हाल ही में पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.

कंगना रनौत ने एक इंटरव्यू में आजादी को लेकर बयान दिया. कंगना ने कहा कि आजादी अगर भीख में मिले, तो क्या वो आजादी हो सकती है? सावरकर, रानी लक्ष्मीबाई, नेता सुभाषचंद्र बोस इन लोगों की बात करूं तो ये लोग जानते थे कि खून बहेगा लेकिन ये भी याद रहे कि हिंदुस्तानी-हिंदुस्तानी का खून न बहाए. उन्होंने आजादी की कीमत चुकाई, यकीनन. पर वो आजादी नहीं थी वो भीख थी. जो आजादी मिली है वो 2014 में मिली है.

यह भी पढ़ें -: नवाब मलिक की बेटी ने देवेंद्र फडणवीस को भेजा नोटिस- बोलने का अधिकार है, गाली देने का नहीं

इस बयान के बाद कंगना नेताओं के निशाने पर हैं. बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने ट्विटर पर लिखा कि कभी महात्मा गांधी जी के त्याग और तपस्या का अपमान, कभी उनके हत्यारे का सम्मान और अब शहीद मंगल पाण्डेय से लेकर रानी लक्ष्मीबाई, भगत सिंह, चंद्रशेखर आज़ाद, नेताजी सुभाष चंद्र बोस और लाखों स्वतंत्रता सेनानियों की कुर्बानियों का तिरस्कार. इस सोच को मैं पागलपन कहूं या फिर देशद्रोह?

यह भी पढ़ें -: त्रिपुरा में वकीलों, पत्रकारों और एक्टिविस्टों के खिलाफ UAPA की FIR को सुप्रीम कोर्ट मैं चुनौती

यह भी पढ़ें -: आवेश खान की दिलचस्प कहानी- पान की दुकान से ‘इंडिया टीम’ तक का सफ़र

सोर्स – abplive.com.  Jitanram Manjhi on Kangana Ranaut


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-