India

पुलवामा हमले की जांच टीम में भी शामिल था लश्कर को सूचनाएं लीक करने वाला आइपीएस नेगी

Jammu IPS Negi Leaked Information
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Jammu IPS Negi Leaked Information : दिल्ली में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) द्वारा दर्ज एफआइआर से संबंधित मामले में हिमाचल प्रदेश में एसडीआरएफ (राज्य आपदा मोचन बल) के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अरविंद दिग्विजय सिंह नेगी को गिरफ्तार किया गया है। भारत में आतंकी हमलों की साजिश रचने, उन्हें अंजाम देने के लिए लश्कर को आवश्यक साजो सामान व अन्य प्रकार की मदद प्रदान करने वाले देशभर में फैले ओवरग्राउंड नेटवर्क से संबंधित यह मामला छह नवंबर, 2021 को दर्ज किया गया था।

इस मामले में पहले ही छह आरोपितों को गिरफ्तार किया जा चुका है। एनआइए को नेगी के बारे में सुराग इस मामले की जांच के दौरान मिले थे। नेगी ने पकड़े गए लश्कर के एक ओवरग्राउंड वर्कर को एनआइए के कुछ अहम व गुप्त दस्तावेज उपलब्ध कराए थे। आरोपों की जांच के दौरान। उसके मकान की तलाशी ली गई थी।

यह भी पढ़ें -: मनमोहन सिंह के मोदी सरकार पर दिए बयान पर बोलीं निर्मला सीतारमण- आपका सम्‍मान करती हूं, यह आशा नहीं थी

हिमाचल प्रदेश कैडर का आइपीएस नेगी करीब चार माह पहले तक एनआइए में ही प्रतिनियुक्ति पर 11 वर्ष तक अपनी सेवाएं दे चुका है। इस दौरान नेगी ने अधिकांश समय जम्मू-कश्मीर में आतंकी गतिविधियों व टेरर फंडिंग से जुड़े मामलों की जांच में बिताया है। उसके खिलाफ नवंबर, 2021 से ही जांच जारी थी।

सूत्रों के अनुसार, नेगी को संदेह हो गया था कि वह खुफिया एजेंसियों की निगाह में है और उसने इससे बचने के लिए संबंधित प्रशासन से एनआइए में अपनी प्रतिनियुक्ति को समाप्त करने और वापस अपने मूल विभाग हिमाचल प्रदेश पुलिस में भेजने का आग्रह किया था। एनआइए से लौटने के बाद उसे एसडीआरएफ का एसपी बनाया गया, लेकिन वह करीब दो माह के अवकाश पर चला गया था। एनआइए ने उसे नवंबर, 2021 में दिल्ली स्थित अपने मुख्यालय में पूछताछ के लिए तलब किया था।

यह भी पढ़ें -: प्रिंसिपल बोले- हिजाब हटाकर पढ़ाओ, लेक्चरर ने इस्तीफा देकर कह दी ये बात…, पढ़ें विस्तार से

कई अहम मामलों की जांच से जुड़ा : नेगी को आतंकी फंडिंग मामले की जांच में उल्लेखनीय योगदान के लिए उत्कृष्ट पुलिस पदक से भी सम्मानित किया जा चुका है। उसे एनआइए में ही एसपी रैंक पर पदोन्नति मिली थी। पुलवामा हमले की जांच करने वाले एनआइए के दल में भी वह शामिल था। वह कश्मीर में आतंकी-पुलिस-राजनीतिक गठजोड़ मामले की जांच में भी शामिल था।

आइएसआइ तक पहुंच गई थीं जानकारियां : सूत्रों के अनुसार, केंद्रीय खुफिया एजेंसी को अपने तंत्र से पता चला था कि कश्मीर में आतंकी व अलगाववादी गतिविधियों की जांच से जुड़ी कुछ अहम जानकारियां पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ तक पहुंच गई हैं। जांच का दायरा बढ़ा तो पता चला कि नेगी ने कथित तौर पर लश्कर के ओवरग्राउंड वर्करों के जरिये कुछ अहम दस्तावेज आइएसआइ तक पहुंचाए थे। खुर्रम और बारामुला निवासी मुनीर चौधरी व पकड़े गए अन्य ओवरग्राउंड वर्करों ने भी उसका नाम लिया है।

यह भी पढ़ें -: केआरके ने खाई कसम- योगी की नहीं हुई हार, तो कभी वापस नहीं आऊंगा भारत, आने लगे ऐसे कमेंट

यह भी पढ़ें -: सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद UP सरकार ने वापस लिए 274 नोटिस, CAA प्रदर्शन पर जारी हुवे थे नोटिस

सोर्स – jagran.com. Jammu IPS Negi Leaked Information


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-