Politics

सिद्धू के बदले सुर, बोले- माफिया राज के खिलाफ लड़ाई में दूंगा भगवंत मान का साथ

i-will-support-bhagwant-mann-in-the-fight-against-mafia-raj-says-sidhu
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार को कहा कि राज्य में ‘माफिया राज’ के कारण पार्टी पंजाब चुनाव हारी है और अब उसे खुद को नये स्वरूप में ढालने का प्रयास करना चाहिए. उन्होंने मुख्यमंत्री भगवंत मान को ‘छोटा भाई’ और ‘ईमानदार व्यक्ति’ बताकर उनकी तारीफ भी की. किसी का नाम लिये बगैर सिद्धू ने कांग्रेस की पांच साल की सरकार में मुख्यमंत्री रहे अमरिंदर सिंह और चरनजीत सिंह चन्नी पर ‘माफिया’ के खिलाफ कार्रवाई करने में असफल रहने का आरोप लगाया.

सिद्धू ने कहा कि अगर मान माफिया के खिलाफ लड़ते हैं तो उनका समर्थन किया जाएगा. गौरतलब है कि हाल ही में संपन्न पंजाब विधानसभा चुनाव में प्रचंड बहुमत से जीतकर आम आदमी पार्टी ने भगवंत मान के नेतृत्व में सरकार बनायी है. एक कार्यक्रम से इतर सिद्धू ने संवाददाताओं से कहा, ‘वह (मान) ईमानदार व्यक्ति हैं.’ इस कार्यक्रम में अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने कांग्रेस की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष का पदभार संभाला.

ये भी पढ़ें -: मिस्ड कॉल से हुआ प्यार, प्रेमी से मिला धोखा तो प्रेमिका का सड़क पर हाईवोल्टेज ड्रामा

पंजाब चुनाव में पार्टी की हार के बाद सिद्धू ने प्रदेश अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दिया है. पूर्व क्रिकेटर ने कहा, ‘कांग्रेस को खुद को नये स्वरूप में ढालना होगा.’ उन्होंने कहा, ‘मैंने पहले कुछ नहीं कहा, लेकिन सभी को बोलने का अधिकार है और आज मैं कहता हूं कि कांग्रेस पांच साल के माफिया राज के कारण चुनाव हारी है.’सिद्धू ने कहा कि वह हमेशा माफिया के खिलाफ लड़ते रहे हैं. हालांकि, उन्होंने इस संबंध में कोई विस्तृत जानकारी नहीं दी, लेकिन सिद्धू अतीत में बालू खनन, परिवहन और केबल टीवी के क्षेत्र में राज्य में कथित ‘माफिया’ को लेकर अपनी कांग्रेस-नीत सरकार की आलोचना कर चुके हैं.

उन्होंने कहा, ‘मेरी लड़ाई किसी व्यक्ति के खिलाफ नहीं थी. यह एक तंत्र के खिलाफ थी और कुछ ऐसे लोगों के खिलाफ है जो राज्य को दीमक की तरह चाट रहे हैं.’सिद्धू ने कहा कि उनकी लड़ाई पंजाब के ‘अस्तित्व’ के लिए है किसी पद के लिए नहीं. उन्होंने कहा, ‘जब तक राजनीति व्यापार बनी रहेगी उसका सम्मान नहीं होगा. जब पंजाब माफिया-मुक्त होगा, तभी राज्य आगे बढ़ेगा.’ कांग्रेस नेता ने कहा कि वह भगवंत मान को अपने छोटे भाई की तरह मानते हैं और माफिया के खिलाफ लड़ाई में उनका साथ देंगे.

ये भी पढ़ें -: खरगोन हिंसा मैं इबरिस खान मौत मामले में 5 आरोपी गिरफ्तार, एक पर लगा NSA

सिद्धू ने कहा, ‘वह ईमानदार व्यक्ति हैं. मैंने उनपर कभी ऊंगली नहीं उठायी है. अगर वह उनके (माफिया के) खिलाफ लड़ते हैं तो मेरा समर्थन उनके साथ है और पार्टी की राजनीति से उठकर भी ऐसा करूंगा क्योंकि यह पंजाब के अस्तित्व की लड़ाई है.’ बाद में एक ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस को सत्ता में वापसी के लिए खुद को नये रूप में ढालना होगा.’ उन्होंने ट्वीट किया है, ‘ईमानदार लोगों को हमेशा नैतिक पुलिस का सामना करना पड़ता है और ईमानदारी प्रेरक (प्रोपेलर) का काम करेगी. हम इस महान राज्य के अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे हैं… या फिर माफिया रहेगा या ईमानदार लोग रहेंगे.

परोक्ष रूप से अमरिंदर सिंह का संदर्भ देते हुए सिद्धू ने दावा किया कि पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा है कि माफिया को नहीं रोकना उनकी गलती है. उनका नाम लिये बगैर कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि उन मुख्यमंत्री ने माफिया को शह दिया है. अमरिंदर सिंह के बाद मुख्यमंत्री बने चरनजीत सिंह चन्नी का भी परोक्ष रूप से संदर्भ देते हुए सिद्धू ने कहा कि उनके बाद जो मुख्यमंत्री बने उनपर भी सवाल उठाए गए.

ये भी पढ़ें -: हिजाब पहनकर कर्नाटक में नहीं देने दिया गया एग्जाम, तो परीक्षा छोड़ दो छात्राएं लौट गईं वापस

ये भी पढ़ें -: नो-बॉल विवाद पर बोले ऋषभ पंत, कहा- थर्ड अंपायर को गेंद चेक करना चाहिए था

सोर्स – abplive.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-