India

हिंदू पक्ष का नया दावा- मिले शिवलिंग में जड़ा था हीरा, कब्जे के बाद निकाला गया था

gyanvapi-controversy-hindu-side-claimed-to-be-shivling-pictures-surfaced
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद मामले में आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है. इससे पहले आजतक ने हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन से बात की. इस दौरान उन्होंने दावा किया कि वजूखाने में जो शिवलिंग मिला उसमें हीरा जड़ा गया था, जिसे कब्जे के बाद निकाल लिया गया, इसी वजह से शिवलिंग पर ऊपर की ओर दरार दिख रही हैं.

हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन ने कहा, ‘मैंने सुप्रीम कोर्ट में सबूतों के साथ 274 पेज का डॉक्यूमेंट जमा कर दिया है, जिसके आधार पर आज सुनवाई होगी. इस डॉक्यूमेंट में काशी क्या है? काशी का महत्व क्या है? की जानकारी है. काशी एक धार्मिक नगरी है, जिसे भगवान शिव ने बसाया था. पुराणों और शास्त्रों में इसका जिक्र है. हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन ने कहा, ‘मैंने कोर्ट को बताया है कि कैसे औरंगजेब आया और मंदिरों को विध्वंस करके गया था, हालांकि वह पूरा मंदिर विध्वंस नहीं कर पाया था और मंदिर के सेवार्थी हैं वह लगातार पूजा करते रहे.

ये भी पढ़ें -: MNS चीफ राज ठाकरे का अयोध्या दौरा कैंसल, हो रहा था विरोध

तस्वीरों को दिखाते हुए हरिशंकर जैन ने बताया कि मस्जिद की पश्चिमी दीवार पर मंदिर की कलाकृतियां हैं. हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन ने कहा, ‘पुराने मंदिर के ऊपर ही गुम्बद रख दिया गया है. हमने गुम्बद के बारे में भी रिपोर्ट किया है, इसके नीचे मंदिर की शिखा है. इसकी मेरे पास तस्वीर भी है.

हरिशंकर जैन ने दावा किया, ‘मेरी जानकारी के मुताबिक जो ओरिजनल शिवलिंग था, वहां पर हीरे रखने की जगह बनी हुई थी. शिवलिंग के ऊपर जो स्थान बना है, वह हीरे रखने की जगह है. फव्वारे की बात तो लोगों को बेवकूफ बनाने की बात है. शिवलिंग के ऊपर हीरे रखने की जगह है, जहां से हीरे गायब हैं और यह पूरा-पूरा शिवलिंग है.

ये भी पढ़ें -: भगवान शिव कैलाश पर विराजमान हैं जहां चीन का कब्जा और ‘भक्त’ उन्हें ताजमहल के नीचे ढूंढ़ रहे हैं: शिवसेना का तंज

इससे पहले कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह ने 12 पन्नों की सर्वे रिपोर्ट को कोर्ट में सब्मिट कर दिया था. सर्वे टीम की रिपोर्ट में जो कुछ कहा और बताया गया है वो प्राचीन मंदिर की मौजूदगी का इशारा करता है. स्पेशल सर्वे कमिश्नर विशाल सिंह की रिपोर्ट में कहा गया कि यहां शिवलिंग मौजूद है, यहां डमरू के चिन्ह, स्वस्तिक के निशान, कमल के फूल और त्रिशूल के चिन्ह हैं.

इस रिपोर्ट में कथित शिवलिंग के बारे में कहा गया, ‘पानी को पंप से निकलवाकर उसके एक छेद को अंदर से बंद करवाया गया. ताकि कुंड का पानी गोलाकार घेर के अंदर ना आ सके. गोलाकार घेरे के अंदर से सफाई कर्मियों द्वारा पूरा पानी निकलवा देने पर नीचे ओवल शेप आकार की आकृति मिली.’ इसी आकृति को हिंदू पक्ष शिवलिंग बता रहा है.

ये भी पढ़ें -: मैथ्यू वेड को ड्रेसिंग रूम में हेलमेट और बल्ला फेंकना पड़ा भारी, IPL ने उठाया बड़ा कदम

ये भी पढ़ें -: गुजरात के खिलाफ चमके विराट कोहली तो वाइफ अनुष्का शर्मा ने कह दी ये बात…, पढ़ें विस्तार से

सोर्स – aajtak.in


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-