India

जिस पायलट को कहा गया ‘कोविड योद्धा’ अब उसे सरकार ने थमाया 85 करोड़ का बिल, जानें पूरा मामला

gwalior-aircraft-crash-landing-mp-government-sent-a-bill-of-rs-85-crore-to-pilot
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

पिछले साल महामारी के दौर में दवाइयों की खेप ले जाने वाले एक पायलट को कोविड योद्धा करार दिया गया था. अब उसी पायलट को मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) सरकार ने 85 करोड़ का बिल थमा दिया है. दरअसल राज्य सरकार प्लेन के कैप्टन माजिद अख्तर (Captain Majid Akhtar) को क्रैश लैंडिग का दोषी पाया है और प्लेन के नुकसान की भरपाई के लिए उन्हें 85 करोड़ (Notice of 85 Crore) का नोटिस दिया गया है.

कैप्टन माजिद ने सरकार के आरोपों को मनाने से इनकार (Pilot refuted charges) कर दिया है. एनडीटीवी की खबर के अनुसार यह घटना पिछले साल तब हुई जब कैप्टन माजिद अख्तर सरकार के प्लेन में अपने सह पायलट के साथ कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए दवाओं की खेप लेकर जा रहे थे. ग्वालियर में विमान लैंडिंग के दौरान रनवे पर अरेस्टर बैरियर से टकरा गया था जिससे विमान की क्रैश लैंडिंग हुई थी और विमान को भी काफी नुकसान पहुंचा था.

यह भी पढ़ें -: लोकतंत्र मर चुका, जम्मू-कश्मीर में किसी को अपने दिल की बात कहने की इजाजत नहीं: महबूबा मुफ्ती

अब जब सरकार ने इस क्रैश लैंडिग के लिए माजिद अख्तर को दोषी पाया है तो उन्हें नुकसान की भरपाई के लिए 85 करोड़ का नोटिस थमाया दिया गया है. चार्जशीट में कही गई ये बात इस पूरे मामले पर राज्य सरकार ने पिछले हफ्ते ही चार्जशीट दाखिल करते हुए कैप्टन पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं. राज्य सरकार ने अपनी चार्जशीट में कहा कि हादसे के कारण विमान को सुधारने में 60 करोड़ का खर्च आया और जब तक विमान नहीं सही हुआ तब तक निजी ऑपरेटरों से विमान किराए पर लिया गया जिसका खर्चा 25 करोड़ हुआ.

एनडीटीवी के अनुसार पायलट ने आरोप लगाया है कि उसे उस बाधा के लिए सूचित नहीं किया गया था जिस वजह से घटना हुई. कैप्टन ने जांज की मांग की माजिद अख्तर ने सरकार के आरोप को मानने से इनकार करते हुए इस बात की जांच करने को भी कहा है कि आखिर कैसे विमान को बिना अनिवार्य बीमा का पालन किए बिना उड़ान भरने की अनुमति दी गई.

यह भी पढ़ें -: कोरोना की दूसरी लहर के दौरान कितने शव गंगा नदी में बहाए गए थे? सरकार ने संसद मैं दिया ये जवाब…

फिलहाल अभी तक सरकार की तरह से भी इस बात का जवाब नहीं दिया गया है. एविएशन मिनिस्ट्री के सूत्रों के अनुसार अगर बीमा का कदम उठाया गया होता तो सरकार को विमान सुधरवाने में जो भी खर्चा आया है वह बीमा कंपनियों से ही मिल जाता.

आपको बता दें कि कोरोना संकट के बीच 6 मई 2021 को मध्य प्रदेश सरकार का स्टेट प्लेन रेमडिसिविर इंजेक्शन लेकर अहमदाबाद से ग्वालियर जा रहा था ग्वालियर पर लैंड करते समय प्लेन दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिससे उसकी क्रैश लैंडिंग करानी पड़ी थी. इसमें कैप्टन माजिद अख्तर और उनके साथी शिवशंकर जायसवाल को कुछ चोटें भी आई थी. इस क्रैश लैंडिंग में विमान बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया था.

यह भी पढ़ें -: गौतम अडानी बने एशिया के सबसे धनवान शख्स, मुकेश अंबानी को छोड़ा पीछे…

यह भी पढ़ें -: MP के स्कूलों में हिजाब पर लगेगा बैन, स्कूल शिक्षा मंत्री ने कही ये बात…

सोर्स – hindi.news18.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-