Politics

BJP विधायक बोले- RSS का झंडा एक दिन राष्ट्रीय ध्वज बनेगा, इसमें कोई संदेह नहीं…

former-karnataka-minister-ks-eshwarappa-says-rss-flag-will-become-a-national-flag-some-day
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

कर्नाटक सरकार में पूर्व मंत्री और मौजूदा विधायक ईश्वरप्पा ने दावा किया है कि RSS का झंडा एक दिन राष्ट्रीय ध्वज बनेगा. उन्होंने कहा कि केसरिया झंडा बलिदान का प्रतीक है. उन्होंने कहा, इसका सम्मान आज या कल से शुरू नहीं हुआ. बल्कि हजारों सालों से इसका सम्मान हो रहा है. ईश्वरप्पा ने संघ की भी तारीफ की. उन्होंने कहा, बलिदान की भावना को लाने के लिए ही आरएसएस केसरिया झंडे के सामने प्रार्थना करता है. उन्होंने कहा, तिरंगा झंडा हमारे संविधान के मुताबिक, राष्ट्रीय ध्वज है. हमें इसे वह सम्मान देते हैं जिसका यह हकदार है.

यह पहला मौका नहीं है, जब ईश्वरप्पा ने इस तरह का बयान दिया हो. इससे पहले उन्होंने यूपी सरकार के मदरसे में राष्ट्रगान अनिवार्य करने के मुद्दे पर कहा था कि अब जल्द ही एंटी नेशनल हमें राष्ट्रगान गाते नजर आएंगे. उन्होंने कहा था कि आतंकी बनाने वाले समुदाय को भी जल्द राष्ट्रगान गाते हुए देखा जाएगा.

ये भी पढ़ें -: Sidhu Moose Wala: गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई ने ली जिम्मेदारी, सलमान खान को भी दे चुका है ध’मकी

इससे पहले ईश्वरप्पा ने दावा किया था कि देश में 36000 मंदिरों को तोड़कर उन पर मस्जिदें बनाई गईं. इतना ही नहीं उन्होंने दावा किया है कि हिंदू लीगल तरीके से सभी 36000 मंदिरों को वापस लेंगे. केएस ईश्वरप्पा की गिनती कर्नाटक में बीजेपी से बड़े नेताओं में होती है. ईश्वरप्पा कर्नाटक सरकार में ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री थे.

ईश्वरप्पा पर ठेकेदार संतोष पाटिल को सुसाइड के लिए उकसाने का आरोप लगा था. आरोप था कि ईश्वरप्पा ने ठेकेदार से कमीशन की मांग की थी. इसकी शिकायत ठेकेदार ने सीएम से लेकर पीएम तक की थी. बाद में परेशान होकर उसने आत्महत्या कर ली. इस मामले में ईश्वरप्पा के खिलाफ FIR भी दर्ज की गई. इसके चलते ईश्वरप्पा को मंत्रीपद से इस्तीफा देना पड़ा था.

ये भी पढ़ें -: नवनीत राणा और रवि राणा के खिलाफ अमरावती में 4 मामले दर्ज, जानें पूरा मामला…

ईश्वरप्पा ने येदियुरप्पा पर लगाए थे आरोप हालांकि, ईश्वरप्पा ने पिछले साल कर्नाटक के तब के सीएम बीएस येदियुरप्पा पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे.

उन्होंने आलाकमान से येदियुरप्पा को हटाने की मांग भी की थी और कहा था कि अगर येदियुरप्पा मुख्यमंत्री रहे तो अगला चुनाव जीतना मुश्किल हो जाएगा. इसके बाद ईश्वरप्पा के साथ बाकी और विधायक भी जुड़ गए और आखिरकार येदियुरप्पा को हटना पड़ा.

ये भी पढ़ें -: जितेंद्र त्यागी उर्फ वसीम रिजवी हुवे बेघर, शिया यतीमखाना के बाहर धरना देते हुवे कही ये बात…

ये भी पढ़ें -: असम में मुस्लिमों सहित छह धार्मिक समुदायों को मिलेगा अल्पसंख्यक का प्रमाणपत्र, विवाद शुरू

ये भी पढ़ें -: पंजाब डीजीपी वीके भावरा बोले- न कमांडो लेकर गए, न ही बुलेट प्रूफ गाड़ी

सोर्स – aajtak.in


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-