Politics

जंतर मंतर पर भड़काऊ नारेबाजी के मामले में BJP के अश्विनी उपाध्याय समेत 6 गिरफ्तार

sloganeering-against-people-of-particular-community-at-delhi-jantar-mantar-police-registered-fir
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

दिल्ली के जंतर-मंतर पर कथित तौर पर भड़काऊ नारे लगाने के मामले में पुलिस का एक्शन शुरू हो गया है. पुलिस ने नारे लगाने वाली भीड़ से कुछ लोगों की पहचान की है. इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है. दिल्ली बीजेपी के पूर्व प्रवक्ता और वकील अश्विनी उपाध्याय (Ashwini Upadhyay ) को भी पहले पुलिस स्टेशन बुलाया गया, फिर हिरासत में ले लिया गया. पुलिस सूत्रों के मुताबिक, दीपक सिंह हिंदू, दीपक, विनीत क्रांति, प्रीत सिंह, विनोद शर्मा को भी गिरफ्तार किया गया है. इनमें प्रीत सिंह सेव इंडिया फाउंडेशन का निदेशक है, जिसके बैनर तले 8 अगस्त को जंतर-मंतर पर कार्यक्रम हुआ था.

मामला 8 अगस्त का है, जब दिल्ली के जंतर-मंतर पर तकरीबन 5 हजार लोगों की भीड़ जुटी थी. इसके वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुए, जिसमें कुछ लोग मुसलमानों के खिलाफ भड़काऊ नारे लगाते नजर आ रहे हैं. पुलिस ने वायरल वीडियो के जरिए उन प्रमुख लोगों की पहचान की, जो कथित तौर पर नारे लगाने वालों में शामिल थे. वीडियो में दिख रहे भगवा कपड़े पहने शख्स की पहचान उत्तम मलिक के तौर पर हुई है. बाकी लोगों में दीपक सिंह हिंदू, पिंकी भैया और विनीत उर्फ क्रांति भी हैं. दीपक को हिरासत में लिए जाने की जानकारी देते हुए एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि

ये भी पढ़ें -: लखनऊ ड्राइवर को चांटे मारने वाली लड़की से पुलिस ने की पूछताछ, अब बताई ये कहानी

“एक टीम को दीपक के घर के बाहर लगाया गया था. रात को तकरीबन 12.40 बजे दीपक कहीं बाहर से घर वापस आया, वहीं से पुलिस टीम ने उसे पकड़ लिया. पुलिस उससे अन्य कार्यक्रमों के बारे में भी पूछ रही है.

एक आरोपी पिंकी चौधरी से इंडिया टुडे ने बातचीत की तो उसने जंतर-मंतर पर मौजूद होने की बात कुबूली. बता दें कि भूपेंद्र तोमर उर्फ पिंकी चौधरी ने 2020 में JNU में हुए हमले की जिम्मेदारी भी ली थी. उस पर गाजियाबाद में दिल्ली के सीएम केजरीवाल पर हमला करने का भी आरोप लगा था. पिंकी चौधरी ने इंडिया टुडे से कहा कि

“मैं जंतर मंतर पर स्टेज के ऊपर मौजूद था. हालांकि नारा मैंने नहीं लगाया. लेकिन जो भी हिन्दू भाई वहां आए थे, उन्हें हमने ही बुलाया था. सभी लड़के हमारे थे. वहां पूरे देश से लड़के आए थे. जिन बच्चों ने नारे लगाए, हम उनसे मुंह नहीं मोड़ सकते. घर मे बच्चे गलती कर देते हैं लेकिन बड़े ये नहीं कह देते न कि बच्चा हमने पैदा ही नहीं किया.

तथाकथित औपनिवेशक कानूनों से देश को मुक्ति दिलाने की मांग के लिए जंतर मंतर पर कार्यक्रम आयोजित किया गया था. इसके बारे में सुप्रीम कोर्ट के वकील अश्विनी उपाध्याय ने भी अपने सोशल मीडिया पेज से लोगों को जानकारी दी थी. 9-10 अगस्त की देर रात तकरीबन 3 बजे अश्विन उपाध्याय को दिल्ली पुलिस ने पूछताछ के लिए कनॉट प्लेस पुलिस स्टेशन बुलाया, और हिरासत में ले लिया. पूछताछ से पहले उन्होंने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा कि

“हम दिल्ली पुलिस को बताने आए हैं कि आयोजक ‘Save India Foundation’ है, और मैं उस फाउंडेशन से नही हूं. वहां बहुत सारे लोग गए थे इसलिए हम भी गए थे. कार्यक्रम एक घण्टे तक चला. जैसे ही वहां भीड़ आने लगी, पुलिस ने कहा कि कार्यक्रम ख़त्म कर दीजिए. तब हम सब मंच छोड़कर चले गए.

ये भी पढ़ें -: जंतर मंतर पर भड़काऊ नारे लगाने वालों की हुई पहचान, पहले केजरीवाल पर कर चुका है हमला

ये भी पढ़ें -: मुस्लिम विरोधी नारेबाजी मैं BJP प्रवक्ता समेत 5 से पूछताछ, हो सकती है गिरफ्तारी

सोर्स – thelallantop.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-