Politics

राज्य मंत्री हरक सिंह रावत को BJP ने छह साल के लिए निष्कासित किया, जानें पूरा मामला…

Harak Singh Rawat Dismisses From Cabinet
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

Harak Singh Rawat Dismisses From Cabinet : भाजपा ने 2016 में कांग्रेस से बगावत कर आए हरक सिंह रावत को पार्टी की सदस्यता से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उन्हें मंत्रिमंडल से भी बर्खास्त कर दिया है। उत्तराखंड प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मदन कौशिक ने हरक सिंह रावत को पार्टी और मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखाए जाने की पुष्टि की है।

प्रदेश की सियासत में उठापटक के प्रतीक माने जाने वाले कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत इस बार भाजपा के लिए किरकिरी का सबब बने हैं। नौ कांग्रेसी विधायकों के साथ हरक सिंह रावत 2016 में हरीश रावत का साथ छोड़ भाजपा में आने की वजह से चर्चा में आए थे। भाजपा ने न सिर्फ उन्हें कोटद्वार से टिकट देकर उम्मीदवार बनाया बल्कि कैबिनेट मंत्री से भी नवाजा। पूर्व मुख्य मंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से उनके लगभग चार साल के कार्यकाल में हरक का छत्तीस का आंकड़ा बना रहा।

यह भी पढ़ें -: उन्‍नाव रेप पीड़िता की मां को टिकट देने पर कुलदीप सेंगर की बेटी बोलीं- प्रियंका जी समाज आपको माफ नहीं करेगा

कर्मकार बोर्ड की अनियमितताओं और नियुक्तियों को लेकर वे त्रिवेंद्र से सीधे-सीधे टकराते रहे। भाजपा ने जब त्रिवेंद्र को बदला तो एकबार उनकी महत्वाकांक्षा मुख्यमंत्री पद हासिल करने की भी हो चली थी। तीरथ सिंह रावत और पुष्कर सिंह धामी की ताजपोशी से उनके मंसूबों पर पानी फिर गया था। उनकी नाराजगी की खबरें लगातार तैरती रहीं।

बताया गया है कि एक ओर तो हरक कोटद्वार की सीट बदलने और परिवार के तीन लोगों के लिए टिकट मांग कर वह भाजपा पर लगातार दबाव बना रहे थे तो दूसरी ओर कांग्रेस में अपनी वापसी की राह भी प्रशस्त करने में जुटे थे। ताजा घटनाक्रम में वह रविवार को दिल्ली रवाना हो गए।

यह भी पढ़ें -: विराट कोहली के कप्तानी छोड़ने से सच हुई महेंद्र सिंह धोनी की कही बात, जानें क्या कहा था धोनी ने

जाते वक्त मीडिया से बातचीत में उन्होंने केवल यही कहा था कि कि जिस तरह हरीश भाई ने अपने पत्ते खोलने की बात कही है, वैसे ही अभी मेरे पत्ते भी खुलने बाकी हैं। पिछले तीन दिन में हरक सिंह रावत दूसरी बार दिल्ली गए हैं। उनके अचानक दोबारा दिल्ली रवाना होने की खबर पाते ही एक बार फिर सियासी हलचल शुरू हो गई थी।

हरक सिंह रावत को राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के निर्देश पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने के कारण भाजपा से छह साल के लिए निष्कासित कर दिया गया है। -मदन कौशिक, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष

यह भी पढ़ें -: योगी के अयोध्या से चुनाव न लड़ने पर बोले संत- हार जाते चुनाव, यहाँ दीपक जलाने के अलावा कुछ नहीं किया..

यह भी पढ़ें -: अजीम प्रेमजी के खिलाफ एक ही मामले को लेकर दाखिल हुईं कई याचिका, कोर्ट ने दो वकीलों को भेज दिया जेल

सोर्स – amarujala.com. Harak Singh Rawat Dismisses From Cabinet


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-