Politics

लखीमपुर खीरी हिंसा मैं आशीष मिश्र मोनू की जमानत अर्जी खारिज, वकील ने कही ये बात…

cjm-court-rejects-bail-application-of-ashish-mishra-the-main-accused-in-lakhimpur-kheri-violence
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

तिकुनिया हिंसा कांड मामले में शुक्रवार को सीजेएम अदालत में आशीष मिश्र मोनू की ओर से द्वितीय जमानत प्रार्थना पत्र पेश किया गया, जिसे अदालत ने खारिज कर दिया। आशीष मिश्रा पर 307 की धारा बढ़ने के बाद सीजेएम अदालत में जमानत अर्जी दाखिल की गई थी।

सीजेएम अदालत में शुक्रवार को खुद को निर्दोष बताते हुए आशीष मिश्र मोनू ने जमानत पर रिहा किए जाने का निवेदन किया, जिस पर प्रभारी सीजेएम मोना सिंह ने जमानत अर्जी की सुनवाई के बाद इसे संज्ञेय मामला बताते हुए आशीष मिश्र मोनू की द्वितीय जमानत अर्जी खारिज कर दी।

यह भी पढ़ें -: बदले प्रशांत किशोर के सुर, बोले- बिना कांग्रेस मजबूत विपक्ष संभव नहीं औऱ PM बन सकते हैं…

बताते चलें कि तिकुनिया कांड मामले में नामजद आरोपी आशीष मिश्र मोनू की ओर से शुक्रवार को बदली हुई धाराओं के चलते द्वितीय जमानत अर्जी सीजेएम अदालत में पेश की गई।

आशीष मिश्र मोनू की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता अवधेश सिंह ने निर्दोष बताते हुए कहा कि उन्हें इस मामले में झूठा फंसाया जा रहा है। धारा 307 और 326 के साथ ही शस्त्र अधिनियम की धारा 3/25/30 और 35 लगाई गई है, जो पूरी तरह से नाजायज है।

यह भी पढ़ें -: गैंग रेप और हत्या मामले में 20 महीने बाद भी नहीं मिला इंसाफ, दर-दर भटक रहे पीड़िता के पिता

एसपीओ एसपी यादव ने जमानत अर्जी का विरोध करते हुए कहां मामला सत्र परीक्षण का गंभीर अपराध अपराध है, जिसमें पूर्व में ही जमानत अर्जी जिला अदालत द्वारा खारिज की जा चुकी है। ऐसे में दूसरी अर्जी स्वीकार होने योग्य नहीं है, इस पर प्रभारी सीजेएम मोना सिंह ने जमानत अर्जी खारिज कर दी है।

यह भी पढ़ें -: ‘कपड़े के ऊपर से छूना गुनाह नहीं’ फ़ैसला देने वाली जज का हुवा डिमोशन, जानें पूरा मामला…

यह भी पढ़ें -: अंजना ओम कश्यप ने बताया कैसे इंटरव्यू देते हैं PM मोदी, लोग लेने लगे चुटकी…

सोर्स – amarujala.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-