Politics

BJP नेता से मिले समीर वानखेड़े के परिजन तो नवाब मलिक बोले- बोतल से बाहर आ ही गया जिन्न

bjp-leader-kirit-somaiya-meets-mumbai-ncb-zonal-director-family-ncp-leader-hits-back
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

मुम्बई क्रूज ड्रग्स केस मामले में जांच अधिकारी और एनसीबी के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के परिवार ने बीजेपी नेता किरीट सोमैया से मुलाकात की है। जिसके बाद एक बार फिर से दोनों के बीच संबंधों को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। एनसीपी नेता ने इसे लेकर बीजेपी और समीर वानखेड़े पर हमला बोला है।

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने इस मुलाकत पर तंज कसते हुए कहा कि बोतल से बाहर जिन्न आ ही गया। समीर वानखेड़े की पत्नी, पिता और बहन ने गुरुवार दोपहर किरीट सोमैया से मुलाकात की थी। जिन्होंने बाद में उन्होंने परिवार के सदस्यों के साथ अपनी तस्वीरें भी ट्वीट कीं और दावा किया कि वे “नवाब मलिक द्वारा बदनाम हमलों” से परेशान हैं।

समीर वानखेड़े, हाल ही में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग्स केस में गिरफ्तार करके चर्चा में आए हैं। इस केस को लेकर भी समीर कई आरोपों का सामना कर रहे हैं। इन मामले में एक गवाह ने भी समीर पर पैसे लेकर डील करने का आरोप लगाया है। वहीं दूसरी ओर एनसीपी नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक भी लगातार समीर वानखेड़े के खिलाफ खुलासे कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें -: राजनाथ सिंह ने नरेंद्र मोदी की महात्मा गांधी से तुलना करते हुवे कह दी ये बात… पढ़ें विस्तार से

मलिक ने एनसीबी अधिकारी पर आरोप लगाया है कि क्रूज ड्रग्स केस फर्जी है, और वानखेड़े ने नौकरी पाने के लिए जाली दस्तावेजों का सहारा लिया है। मलिक के अनुसार वानखेड़े मुस्लिम हैं, जबकि उन्होंने दलित आरक्षण का फायदा उठाते हुए ये नौकरी हासिल की है। हालांकि समीर और उनके परिवार ने इन सभी आरोपों से इनकार किया है।

क्रूज ड्रग्स का भंडाफोड़ करने के मामले में भाजपा की कथित संलिप्तता पर अपने दावों पर महाराष्ट्र के मंत्री ने कहा, “किरण गोसावी, जो आर्यन खान की गिरफ्तारी में एनसीबी का गवाह है, उसकी भाजपा नेता के साथ साझेदारी है”।

दूसरी ओर राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने महाराष्ट्र के मुख्य सचिव, डीजीपी और मुंबई पुलिस आयुक्त को एनसीबी के क्षेत्रीय निदेशक समीर वानखेड़े की शिकायत पर 7 दिनों में एक्शन टेकन रिपोर्ट देने के लिए कहा है। समीर ने अपने जाति प्रमाण पत्र के खिलाफ मलिक के आरोपों के बाद राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग से शिकायत की थी। जिसके बाद आयोग ने ये रिपोर्ट मांगी है।

यह भी पढ़ें -: पंचायत चुनाव में वसुंधरा के घर BJP का सूपड़ा साफ, अलवर में भी हॉल खस्ता

यह भी पढ़ें -: ड्रग्स केस में सवालों के घेरे में NCB- एक साल में 5 मामले और सबमें एक ही गवाह

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-