Politics

बीरभूम की घटना पर ओवैसी का ममता बनर्जी पर तंज- कलम की जगह मुसलमानों के हाथों में…

birbhum-violence-asaduddin-owaisi-targets-mamata-banerjee
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने गुरुवार को बीरभूम की घटना को लेकर ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पश्चिम बंगाल सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ममता पर तंज कसते हुए कहा कि कलम की जगह मुसलमानों को हाथों में बम थमा दिया गया है। उन्हें फुट सोलजर की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है। मामले को लेकर सियासत तेज हो गई है। राज्य सरकार कांग्रेस और भाजपा समेत विपक्षी पार्टियों के निशाने पर है। इस ओवैसी का बयान सामने आया है।

ओवैसी ने कहा, “इस हिंसा की हम निंदा करते हैं, लेकिन हम शुरू से कह रहे हैं कि जो तथाकथित सेक्युलर पार्टियां हैं वो मुसलमानों को लीडरशीप पोजिशन में नहीं देखना चाहतीं। वो मुसलमानों को शिक्षा नहीं देना चाहतीं। कलम की जगह उनकी हाथों में बम थमा दिया। रोजगार की जगह अवैध रेत खनन में लगा दिया। ये एक बड़ी तस्वीर है। लॉ एंड ऑर्डर बनाए रखना सरकार की जिम्मेदारी है। सरकार नाकाम साबित हुई।

ये भी पढ़ें -: खराब मौसम में फंसा राकेश टिकैत का विमान आधे घंटे तक कलाबाजी खाता रहा…

मुसलमानों को देखना है कि कैसे उन्हें फुट सोलजर की तरह इस्तेमाल किया जाता है। न उनको उनका हिस्सा दिया जाता है। न उनको इज्जत और मुकाम दिया जाता है। किसके बच्चे मर रहे हैं देख लिजिए। ममता बनर्जी कह रही हैं यह बड़ी साजिश है। इसे लेकर ओवैसी ने कहा कहा, ” आप सो रहे थे। सरकार आपकी है और मुख्मंत्री आप हैं। आपको नजर नहीं आया कि साजिश हो रही है। कबतक साजिश बोलेंगे आप। कबतक इस तरह हमदर्दी हासिल करेंगी। अगर साजिश थी तो आपने कितने ऑफिसर्स को सस्पेंड किया? कितने को निकला?

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को कहा कि पुलिस दोषियों के लिए कड़ी से कड़ी सजा सुनिश्चित करेगी। उन्होंने कहा कि किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने 10 प्रभावित परिवारों के सदस्यों को स्थायी सरकारी नौकरी देने का वादा किया। मुआवजे का भी ऐलान किया। बता दें कि बीरभूम के रामपुरहाट इलाके में मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) नेता भादू शेख की हत्या के बाद भीड़ द्वारा घरों में आग लगाने के बाद कुल 10 लोगों की मौत हो गई।

ये भी पढ़ें -: मुकेश सहनी की पार्टी को झटका, VIP के तीनों विधायक BJP में हुए शामिल

कलकत्ता हाई कोर्ट ने बुधवार को रामपुरहाट की घटना का स्वत: संज्ञान लिया और राज्य सरकार को 24 घंटे में इस घटना पर स्टेटस रिपोर्ट देने का निर्देश दिया। कोर्ट ने राज्य सरकार को चौबीसों घंटे निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाने का भी निर्देश दिया था। रामपुरहाट के हिंसा प्रभावित इलाके में सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल का गठन किया गया है। गृह मंत्रालय ने भी 72 घंटे में रिपोर्ट मांगी है।

ये भी पढ़ें -: कोर्ट ने सलमान खान को भेजा समन, जानें क्या है मामला..

ये भी पढ़ें -: KRK ने सलमान खान पर लगाया गंभीर आरोप, कहा- मुझे जान से मारने के लिए दी है सुपारी

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-