India

औरेया DM ने उल्टा फहराया तिरंगा, सफाई में बोले- टेस्टिंग कर रहा था

auraiya-dm-hoisted-national-flag-upside-down-on-75th-independence-day
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

उत्तर प्रदेश के औरैया में 75वां स्वतंत्रता दिवस धूमधाम से मनाया गया, लेकिन जिलाधिकारी सुनील कुमार वर्मा ने बिना देखे ही उल्टा झंडा फहरा दिया. कलक्ट्रेट भवन ककोर में हुए ध्वजारोहण के बाद राष्ट्रीय गान गाया गया और उल्टे झंडे को सलामी दी गई. हैरानी की बात तो ये है कि इस दौरान न तो जिलाधिकारी ने इस ओर ध्यान दिया और ना ही मौके पर मौजूद सैकड़ों लोगों की भीड़ ने. इस पूरे मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिस पर लोगों द्वारा कमेंट्स की बारिश की जा रही है.

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होने के बाद जिलाधिकारी इस मामले में सफाई देते नजर आ रहे हैं. जिलाधिकारी ने कहा कि वायरल वीडियो ध्वजारोहण से पहले की गई टेस्टिंग का है. प्रोटोकॉल के तहत सही तरीके से ध्वजारोहण किया गया. वहीं जो वीडियो वायरल हुआ है, उसे लेकर सूचना अधिकारी से स्पष्टीकरण मांगा गया है.

ये भी पढ़ें -: मोहन भागवत बोले- जब तक चीन पर निर्भरता रहेगी तब तक उनके सामने झुकना पड़ेगा

जिलाधिकारी सुनील कुमार वर्मा ने कहा कि यह वीडियो भ्रामक है, जो सोशल मीडिया ग्रुप की उपज है. यह वीडियो सुबह आठ बजे से पहले का है, जब ध्वजारोहण से पहले टेस्टिंग की जाती है. उस दौरान देखा गया था कि तिरंगा सही नहीं था, इसके बाद तिरंगे को सीधा कराया गया.

जिलाधिकारी द्वारा जहां उल्टा तिरंगा फहराए जाने को लेकर सफाई दी जा रही है, वहीं सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में लोगों द्वारा इस लापरवाही पर खूब कमेंट किए जा रहे हैं. एक यूजर ने तो ट्विटर पर वायरल हो रहे इस वीडियो पर ये तक लिखा है कि “कैसे सिस्टम संभालते होंगे जब राष्ट्रीय ध्वज नहीं संभाल पा रहे”.

ये भी पढ़ें -: NDTV के राजनीतिक संपादक को नहीं मिला संसद कवरेज के लिए पास, NDTV ने कही ये बात…

पूर्व IPS अधिकारी अमिताभ ठाकुर द्वारा अपने ट्विटर से इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा है कि “DM औरैया सुनील कुमार वर्मा द्वारा राष्ट्रीय ध्वजारोहण में भारी लापरवाही व घोर अपमान.” इस वीडियो पर कमेंट्स की भरमार है. हालांकि कुछ लोग इसे मानवीय भूल बताकर डीएम औरैया के पक्ष में भी खड़े नजर आ रहे हैं.

एक अन्य यूजर ने लिखा है कि “ये किसी पार्टी का झंडा नहीं है और दिन भी बेहद खास है.” एक यूजर ने लिखा है कि ये झंड़ा बांधने वाली की गलती है, तो इसके जवाब में अन्य यूजर ने लिखा है कि “ये सही है, तारीफ लेने के लिए अधिकारी और गलती हो तो कर्मचारी.

ये भी पढ़ें -: मेघालय मैं मुख्यमंत्री के घर पर पेट्रोल बम से हमला, शिलांग में लगा दो दिन का कर्फ्यू

ये भी पढ़ें -: अफगानिस्तान में हुवा तालिबान का कब्ज़ा तो मलाला यूसुफजई ने कही ये बात…

सोर्स – aajtak.in


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-