India

रूबिका से बोले असीम वकार- एक-एक डिबेट का 10 हजार लेती हैं, 4 लाख तनख्वाह है आपकी, भड़की रूबिका

dvdfv
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

ज्ञानवापी मामले लेकर चल रही एक डिबेट के दौरान AIMIM नेता असीम वकार ने न्यूज एंकर रूबिका लियाकत से कहा कि एक-एक डिबेट का 10 हजार रुपये लेती हैं, चार लाख तनख्वाह है आपकी। इस पर रूबिका लियाकत भड़क गईं। उन्होंने असीम वकार से कहा- बदतमीजी नहीं मेरे सामने।

वकार ने रूबिका लियाकत से पूछा कि आपके हिसाब से जो ज्ञानवापी का मामला चल रहा है, इसमें आप क्या मानती हैं। क्या जो आरोप और झूठ फैलाया जा रहा है शिवलिंग का आपकी नजर वो क्या है? वकार ने रूबिका से कहा कि पहले आप इस मामले पर अपना माइंडसेट क्लियर करिए। इसके जवाब में रूबिका लियाकत ने कहा कि मेरा माइंडसेट क्लियर है। मेरे चाहने और न चाहने से क्या होगा। क्या आप मेरी गुलामी कर रहे हैं, आप मेरे वर्कर हैं या मेरे लिए काम कर रहे हैं कि जो मैं कहूंगी उसके हिसाब से आप चलने लगेंगे।

ये भी पढ़ें -: Sidhu MooseWala: सुरक्षाकर्मियों को गेट पर ही छोड़कर क्यों चले गए थे सिद्धू?, वजह आई सामने…

रूबिका लियाकत ने असीम वकार से कहा कि मैं कुछ भी मानूं, मैं तो यह मानती हूं कि आप बैठकर टाइम पास कर रहे हैं। आप जो कुछ भी कह रहे हैं वो मोहब्बत नहीं, नफरत फैलाने के लिए कर रहे हैं। ताकि AIMIM की दुकान चले। मेरे मानने से फर्क नहीं पड़ता भाईजान। इसके जवाब में असीम वकार ने रूबिका लियाकत से कहा कि दुकान आपकी चल रही है। एक-एक डिबेट के 10-10 हजार रुपए आप लेती हैं। चार लाख रुपए तनख्वाह आपकी है। अगर आप ज्ञानवापी पर बहस नहीं करेंगी तो आपका चैनल आपको नौकरी पर नहीं रखेगा। आप कैसी बातें कर रही हैं। आप हम पर आरोप लगा रही हैं।

असीम वकार के इस जवाब से रूबिका लियाकत भड़क गईं। उन्होंने असीम वकार से कहा बदतमीजी नहीं मेरे सामने, तमीज से बात कीजिए। मैं अपने बच्चों को घर छोड़कर आती हूं, आपकी तरह सोफे पर बैठकर डिबेट नहीं करती हूं। असीम वकार ने कहा कि देश में जहर खोलकर बच्चा पालिएगा।असीम वकार की इस बात पर रूबिका लियाकत और भड़क गईं, कहा आपको तुरंत टीवी स्क्रीन से हटाते हैं। आपके पास कोई काम नहीं है।

ये भी पढ़ें -: मोहन भागवत का बड़ा बयान- अब ज्ञानवापी को लेकर कोई आंदोलन नहीं होगा औऱ…

असीम वकार ने कहा कि जहर की खेती किसने शुरू की थी, पहले जमीन पर हल चलाया, उसमें बीज बोया, वो पौधा बना, पेड़ बना। फिर पूरा इलाका जहर से भर गया। अब आप (मोहन भागवत) जो हैं बयान जारी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मोहन भागवत क्या हैं? क्या वो भारत सरकार के किसी ऑफिसियल पोस्ट पर हैं। उन्होंने कहा कि 1991, 1990, 1989, 1986 जो गेम आप ने खेला, 1992 में बाबरी मस्जिद की शहादत की। ये सब बोया किसने। कानून को आपने तोड़ा, संविधान को आपने रौंदा। उन्होंने कहा कि ये मैसेज प्रधानमंत्री को देना चाहिए। भारत के प्रधानमंत्री क्या कर रहे?

ये भी पढ़ें -: CAA पर केरल CM का ऐलान- केरल में लागू नहीं होगा नागरिकता संशोधन अधिनियम

ये भी पढ़ें -: सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला- आर्य समाज की ओर से जारी विवाह प्रमाण पत्र कानूनी नही माना जायेगा

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-