अब अलीगढ़ की जामा मस्जिद पर विवाद, CM योगी को लिखा पत्र, रखी ये मांग

अब अलीगढ़ की जामा मस्जिद पर विवाद, CM योगी को लिखा पत्र, रखी ये मांग
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

UP News: अलीगढ़ (Aligarh) में ऊपर कोर्ट स्थित जामा मस्जिद (Jama Masjid) को लेकर खुलासा करने वाले आरटीआई (RTI) एक्टिविस्ट केशव देव ने अब मुख्यमंत्री को एक पत्र लिख है. पत्र में उन्होंने जामा मस्जिद की जांच कर कार्रवाई करने की मांग की है. केशव देव का कहना है कि जामा मस्जिद जिस जगह पर बनी है, वह पूर्व में हिंदू राजाओं का किला रहा है. इस पर एक समुदाय द्वारा जबरन कब्जा कर लिया गया है. आरटीआई में भी इस बात का खुलासा हुआ है कि यह सार्वजनिक संपत्ति है. इस पर किसी व्यक्ति विशेष का हक नहीं है.

दरअसल, अलीगढ़ के प्रतिभा कॉलोनी के रहने वाले आरटीआई कार्यकर्ता केशव देव ने नगर निगम से आरटीआई के तहत जानकारी मांगी थी. उन्होंने पूछा था कि अलीगढ़ की ऊपरकोट स्थित जामा मस्जिद किस भूमि पर बनी है और उस मस्जिद पर मालिकाना हक किसका है. जिसके जवाब में नगर निगम ने केशव देव को लिखित में सूचना दी कि यह मस्जिद सार्वजनिक जमीन पर बनी है.

ये भी पढ़ें -: मैं जिंदा हूं… यह बताने 900 KM दूर जाना पड़ता, तब मिलता सेकंड वर्ल्ड वॉर के सैनिक की पत्नी 6,000 रुपये का पेंशन

इस पर किसी व्यक्ति विशेष का मालिकाना हक नहीं है. इसके बाद केशव देव ने डीएम अलीगढ़ को एक पत्र लिख उक्त भूमि को मुक्त कराने की मांग की थी. अब केशव देव ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जामा मस्जिद की जांच कर कार्रवाई करने की मांग की है.

केशव देव ने बताया कि जामा मस्जिद को लेकर नगर निगम से जन सूचना प्राप्त हुई थी. उसको लेकर मैंने जिलाधिकारी को पत्र भेजा था. अब हमने मुख्यमंत्री को भी पत्र भेजा है. उसमें यह मांग की है कि यह जो जामा मस्जिद ऊपरकोट किला है, इस किले पर जो जामा मस्जिद बनी हैं वह पूर्व राजा बुद्धसेन और मंगलसेन रहे हैं. उन्हीं के नेतृत्व में राजा बुद्ध सेन के द्वारा यहां मीनारों का निर्माण कराया गया था. जिसे वह मस्जिद के नाम से जाना जाता है.

ये भी पढ़ें -: अमिताभ, शाहरुख, अजय और रणवीर पर पान मसाला को प्रमोट करने पर केस दर्ज

उन्होंने बताया कि 1753 में महाराजा सूरजमल यहां के राजा रहे हैं. उन्होंने रामगढ़ अलीगढ़ का नाम रखा था. उसी की निशानी ऊपरकोट किला तो था एक यूनिवर्सिटी बोना चोर के नाम से किला है. उसका भी निर्माण कराया था. उससे मालूम पड़ता है कि वहां महाराजाओं के अवशेष भी हैं. राजाओं की कलाकृतियां भी हैं और हिंदू सनातन धर्म के ऋषी रहे हैं. विश्वामित्र और चाणक्य की कर्मभूमि रही है. उस हिसाब से वो पूर्ण रूप से हिंदू राजाओं की संपत्ति और राष्ट्रीय धरोहर है.

ये भी पढ़ें -: ज्ञानवापी मामले मैं पोस्ट करने वाले DU के प्राफेसर रतनलाल गिरफ्तार, छात्रों ने किया विरोध-प्रदर्शन

ये भी पढ़ें -: टिकैत से अलग होकर एक्शन में नया किसान संगठन, योगी सरकार को दी ये चेतावनी

सोर्स – abplive.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-