World

अफगानिस्तान के मंत्री जर्मनी में कर रहे है पिज्जा डिलीवरी, लोगों ने कही ये बात…

afghan-minister-who-became-a-bicycle-courier-in-germany
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

किस्मत का कोई भरोसा नहीं. कोई इंसान कब क्या हो जाए कोई नहीं कह सकता है. हमारे सामने लाखों उदाहरण हैं, जिनकी मदद से हम समझ सकते हैं कि कोई इंसान पल भर में राजा से रंक बन जाता है तो पल भर में ही रंक से राजा. अब अफगानिस्तान (Afghanistan) के एक मंत्री के बारे में जान लीजिए. एक समय था जब वो अफगानिस्तान के केंद्रीय संचार (Communication Minister) मंत्री थे. अपने मंत्रिमंडल (Ministries) में सबसे पढ़े लिखे मंत्री का रुतबा हासिल था. हमेशा सूट-बूट में रहने वाले ये मंत्री आज पिज्जा डिलीवरी करने को मज़बूर हैं.

गौरतलब है कि अफगानिस्तान में तालिबान के बढ़ते प्रकोप के कारण इन्होंने अपना इस्तीफा दिया था. आज अपना और अपने परिवार का पेट पालने के लिए पिज्जा डिलीवरी करना पड़ रहा है. अफगानिस्तान के इस मंत्री का नाम सैयद अहमद शाह सद्दत (Syed Ahmed Shah Saddat) है. ये बहुत पढ़े-लिखे नेता है. इन्होंने अपनी पढ़ाई ऑक्सफॉर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) से की है. पेशे से इलेक्ट्रिक इंजीनियर भी हैं.

ये भी पढ़ें -: UP के IAS अफसर की सब्जी बेचते हुए फोटो वायरल, जानें पूरा मामला…

मंत्री पद संभालने से पहले सद्दत लगभग 13 बड़े शहरों में 23 तरह के काम कर चुके हैं. अभी वर्तमान में जर्मनी में पिज्जा की डिलीवरी कर रहे हैं. तालिबान के खौफ से सितंबर 2020 में ही सद्दत जर्मनी आ गए थे. सद्दत ने जर्मनी के लिपजिग शहर में शरण ली. जर्मनी आकर इन्होंने नौकरी का प्लान किया, मगर इन्हें नौकरी नहीं मिली. अंत में इन्हें पिज्जा डिलिवरी बॉय की नौकरी करनी पड़ी.

इस पूरे मामले पर सैयद शाह सद्दत बताते हैं कि उन्हें जर्मन भाषा बोलना नहीं आता है, इस कारण यहां नौकरी में दिक्कत है. पिज्जा डिलीवरी करते समय मैं जर्मनी भी सीखने की कोशिश कर रहा हूं ताकि मुझे अच्छी नौकरी मिल जाए. सैयद अहमद शाह सद्दत ने एक न्यूज एंजेंसी से बात करते हुए कहा कि शुरूआती दिनों में मुझे इस शहर में रहने के लिए कोई काम नहीं मिल रहा था क्योंकि मुझे जर्मन भाषा नहीं आती है.

ये भी पढ़ें -: 251 रुपये में स्मार्टफोन देने का झांसा देने वाले मोहित गोयल का एक और कारनामा, हुआ गिरफ्तार

पिज्जा डिलवीर का काम फिलहाल मै सिर्फ जर्मन भाषा सीखने के लिए कर रहा हूं. इस नौकरी के जरिए मै शहर के अलग-अलग हिस्से में घूमकर लोगों से मिल रहा हूं ताकि आने वाले दिनों में खुद को निखारकर दूसरी नौकरी पा सकूं. जर्मनी सीखने के लिए वो 4 घंटे की क्लास करते हैं. इसके अलावा 6 घंटे की शिफ्ट करते हैं.

अफगानिस्तान पर तालिबान के खूनी कब्जे के बाद पूर्व राष्ट्रपति सहित कई बड़े नेता अफगानिस्तान छोड़कर अलग-अलग देशों में शरण ले चुके है. लेकिन पहली बार किसी बड़े मंत्री का इस तरह से पिज्जा बेचने की तस्वीरें सामने आई है.

ये भी पढ़ें -: रुबिका लियाकत औऱ राकेश टिकैत मैं तीख़ी बहस, टिकैत बोले- आप सरकार में किस पोस्ट पर हो?

ये भी पढ़ें -: दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल से मिले सोनू सूद, सियासी पारी की शुरुआत के लग रहे है कयास

सोर्स – ndtv.in


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-