Politics

ABVP छात्रों ने फीस बढ़ोतरी पर BHU में ‘भैंस’ के आगे बजाई बीन, किया प्रदर्शन

20221019 110942 min
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

काशी हिंदू विश्वविद्यालय में फीस बढ़ोतरी को लेकर कई दिनों से अलग-अलग छात्र संगठन विरोध कर रहे हैं. मंगलवार को ABVP बीएचयू इकाई की तरफ से अनोखा विरोध दर्ज कराया गया. विश्वनाथ मंदिर के बाहर दर्जनों की संख्या में छात्रों ने भैंस के आगे बीन बजाकर प्रदर्शन किया. छात्रों ने फीस बढ़ोतरी से संबंधित बैनर भी हाथ में ले रखे थे.

भैंस पर बकायदा बीएचयू कुलपति लिखा हुआ था और उसके आगे छात्र बीन बजाते हुए दिखाई पड़ रहे थे. छात्रों ने कहा कि जैसे भैंस के आगे बीन बजाते रहने से भैंस को कोई फर्क नहीं पड़ता है. वैसे ही विश्वविद्यालय में भी चारों तरफ छात्र अलग-अलग अपने तरीके से विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं. मगर, इसका थोड़ा भी असर कुलपति पर नहीं पड़ रहा है.

छात्रों ने कहा कि अगर फीस बढ़ोतरी वापस नहीं हुई, तो उनका विरोध भी जारी रहेगा. इस दौरान ABVP के छात्रों ने फीस बढ़ोतरी वापस लो और विश्वविद्यालय का बाजारीकरण बंद करो के नारे लगाए गए.

ये भी पढ़ें -: ‘द कश्मीर फाइल्स 2’ पर विवेक अग्निहोत्री ने दिया बयान, लोग पूछ रहे है तरह-तरह के सवाल…

प्रदर्शन में बड़ी संख्या में छात्र एवं छात्राएं उपस्थित रहे. इसके साथ ही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने आने वाले दिनों में आंदोलन और तेज करने का ऐलान किया है.

विरोध प्रदर्शन को लेकर काशी हिंदू विश्वविद्यालय इकाई के ABVP मंत्री पुनीत मिश्र ने कहा, “विश्वविद्यालय प्रशासन फीस बढ़ोतरी पर सफेद झूठ बोल रहा है. अगर फीस बढ़ोतरी नहीं हुई है, तो सत्र 2021 के विद्यार्थियों से बढ़ी हुई फीस क्यों वसूली गई? विश्वविद्यालय प्रशासन लीपापोती करने के बजाय जल्द से जल्द फीस बढ़ोतरी वापस ले.

उन्होंने आगे बताया, “हमारा आंदोलन फीस बढ़ोतरी वापस लेने तक जारी रहेगा. प्रशासन द्वारा इस पूरे प्रकरण पर कोई सकारात्मक पहल नहीं की जा रही है. इस स्थिति में आज भैंस के आगे बीन बजा कर विरोध जताया गया. भैंस की भांति ही प्रशासन विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों की आवाज को अनसुना कर रहा है.

ये भी पढ़ें -: वर्ल्ड कप में कौन करेगा जसप्रीत बुमराह की कमी पूरी? सचिन तेंदुलकर ने बताया नाम

ये भी पढ़ें -: दिल्ली हाईकोर्ट ने उमर खालिद की जमानत याचिका की खारिज, जानें पूरा मामला…

ये भी पढ़ें -: बिलकिस बानो मामले में गुजरात सरकार ने SC में दाखिल किया जवाब- सभी दोषियों का कैद में व्यवहार अच्छा था


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-