Politics

ABP सी-वोटर का ताजा सर्वे : UP चुनाव 2022 में BJP को कड़ी टक्कर देगी सपा

abp-c-voter-survey-about-up-assembly-election-2022-yogi-government-sp-akhilesh-yadav
आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-

यूपी विधानसभा चुनाव में महज कुछ ही महीने बाकी हैं। ऐसे में भाजपा, सपा, कांग्रेस और बसपा अपनी रणनीति को लेकर सक्रिय नजर हैं। वहीं एबीपी सी-वोटर के ताजा सर्वे से पता चला है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में भाजपा सरकार की फिर से वापसी हो सकती है। बता दें कि इस सर्वे के मुताबिक समाजवादी पार्टी भाजपा को कड़ी टक्कर दे सकती है।

सपा दे रही है कड़ी टक्कर: 16 दिसंबर के आंकड़ों के मुताबिक सर्वे में 47 फीसदी लोगों का मानना है कि आने वाले चुनावों में भाजपा की सरकार बनेगी। वहीं 31 फीसदी सपा सरकार की बात कर रहे हैं। इसके अलावा बसपा और कांग्रेस काफी पीछे नजर आ रही है। बता दें कि जहां 8 फीसदी लोगों का कहना है कि सूबे में बसपा की सरकार बनेगी तो वहीं 6 फीसदी लोग कांग्रेस की वापसी बता रहे हैं। इन आंकड़ों से जाहिर है कि यूपी चुनाव में अखिलेश यादव की पार्टी सपा सत्ताधारी भाजपा को कड़ी टक्कर दे रही है। वहीं 12 दिसंबर के एबीपी सी-वोटर के सर्वे में पता चला था कि बीजेपी को 212-224 सीटें मिल सकती हैं।

यह भी पढ़ें -: मस्जिद को गेरुआ रंग में रंगे जाने से भावुक हुआ  युवक, रोते हुए कही ये बात… वीडियो वायरल

इसके अलवाा एसपी को 151-163 सीटें, बीएसपी को 12-24 सीटें और कांग्रेस को 2-10 सीटें मिलने का अनुमान है। बता दें कि जैसे-जैसे यूपी चुनाव नजदीक आ रहे हैं, वैसे-वैसे सपा प्रमुख अखिलेश यादव अपनी रणनीति को धार दे रहे हैं। 16 दिसंबर को अखिलेश यादव ने अपने चाचा और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव से मुलाकात की। यह मुलाकात यूपी की सियासत को देखते हुए काफी अहम मानी जा रही है।

दरअसल शिवपाल यादव कई दिनों से कहते आ रहे थे कि अखिलेश यादव से मिलने के लिए उन्होंने समय मांगा लेकिन अभी तक उन्हें समय मिला नहीं है। वहीं इस बीच बीते गुरुवार को अखिलेश यादव शिवपाल से मिलने उनके घर पहुंचे। दोनों के बीच करीब 45 मिनट तक मुलाकात हुई। इस बैठक के बाद सपा और प्रसपा के बीच गठबंधन का ऐलान हुआ।

यह भी पढ़ें -: नेशनल शूटर कोनिका ने किया सुसाइड, सोनू सूद ने भेजी थी ढाई लाख की जर्मन राइफल

वहीं भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने इस मुलाकात पर तंज कसते हुए कहा, ”क्या अखिलेश यादव ने शिवपाल यादव द्वारा उन्हें (अखिलेश यादव) 2018 में कंस कहने के लिए माफी मंगवाई या फिर अखिलेश यादव ने मान लिया कि उनके चाचा ने जिस शब्दावली का इस्तेमाल किया था, वह सही था।

उन्होंने कहा कि मैं पूछना चाहता हूं कि जनता के लिए इन्होंने क्या किया?” पूनावाला ने अखिलेश यादव पर परिवारवाद का आरोप लगाते हुए कहा कि सपा नेता आईपी सिंह कभी इस पार्टी के अध्यक्ष बन सकते हैं क्या?

यह भी पढ़ें -: बदले प्रशांत किशोर के सुर, बोले- बिना कांग्रेस मजबूत विपक्ष संभव नहीं औऱ PM बन सकते हैं…

यह भी पढ़ें -: गैंग रेप और हत्या मामले में 20 महीने बाद भी नहीं मिला इंसाफ, दर-दर भटक रहे पीड़िता के पिता

सोर्स – jansatta.com


आर्टिकल को शेयर ज़रूर करें :-